Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

मुंबई। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की मुश्किलों में थोड़ा इजाफा हो सकता है। साल 2010 में गोदावरी नदी की बाबली परियोजना के खिलाफ प्रदर्शन करने के एक मामले में महाराष्ट्र की कोर्ट ने उनके और 15 अन्य लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। अदालत ने महाराष्ट्र पंलिस को सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर 21 सितंबर तक पेश करने के निर्देश दिए हैं। 

गौरतलब है कि एन चंद्रबाबू नायडू पर अविभाजित आंध्रप्रदेश के दौरान अपने कई समर्थकों के साथ महाराष्ट्र में बाबली परियोजना के समीप विरोध करने का आरोप है। विरोध करने पर उन्हें समर्थकों के साथ गिरफ्तार करने के बाद पुणे की जेल में डाल दिया गया था। हालांकि बाद में उन्हें बिना जमानत मांगे ही रिहा कर दिया गया था। 


ये भी पढ़ें - तेल की ‘धार’ में तेजी जारी, पेट्रोल की दर में 28 पैसे का इजाफा डीजल भी 22 पैसे बढ़ा

यहां बता दें कि चंद्रबाबू नायडू का कहना था कि बाबली परियोजना से निचले इलाकों में रहने वालों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा। परियोजना का विरोध करने पर उनपर जनसेवक को काम करने में बाधा पहुंचाने के लिए हमला या आपराधिक बल प्रयोग करने, हथियार या किसी अन्य तरीके से जानबूझकर जख्म पहुंचाना, अन्य की जिंदगी खतरे में डालने समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराएं लगायी गयी हैं। 

Todays Beets: