Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

मुंबई। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की मुश्किलों में थोड़ा इजाफा हो सकता है। साल 2010 में गोदावरी नदी की बाबली परियोजना के खिलाफ प्रदर्शन करने के एक मामले में महाराष्ट्र की कोर्ट ने उनके और 15 अन्य लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। अदालत ने महाराष्ट्र पंलिस को सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर 21 सितंबर तक पेश करने के निर्देश दिए हैं। 

गौरतलब है कि एन चंद्रबाबू नायडू पर अविभाजित आंध्रप्रदेश के दौरान अपने कई समर्थकों के साथ महाराष्ट्र में बाबली परियोजना के समीप विरोध करने का आरोप है। विरोध करने पर उन्हें समर्थकों के साथ गिरफ्तार करने के बाद पुणे की जेल में डाल दिया गया था। हालांकि बाद में उन्हें बिना जमानत मांगे ही रिहा कर दिया गया था। 


ये भी पढ़ें - तेल की ‘धार’ में तेजी जारी, पेट्रोल की दर में 28 पैसे का इजाफा डीजल भी 22 पैसे बढ़ा

यहां बता दें कि चंद्रबाबू नायडू का कहना था कि बाबली परियोजना से निचले इलाकों में रहने वालों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा। परियोजना का विरोध करने पर उनपर जनसेवक को काम करने में बाधा पहुंचाने के लिए हमला या आपराधिक बल प्रयोग करने, हथियार या किसी अन्य तरीके से जानबूझकर जख्म पहुंचाना, अन्य की जिंदगी खतरे में डालने समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराएं लगायी गयी हैं। 

Todays Beets: