Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चंद्रबाबू नायडू को अदालत ने दिया झटका, 2010 के मामले में जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट

मुंबई। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की मुश्किलों में थोड़ा इजाफा हो सकता है। साल 2010 में गोदावरी नदी की बाबली परियोजना के खिलाफ प्रदर्शन करने के एक मामले में महाराष्ट्र की कोर्ट ने उनके और 15 अन्य लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। अदालत ने महाराष्ट्र पंलिस को सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर 21 सितंबर तक पेश करने के निर्देश दिए हैं। 

गौरतलब है कि एन चंद्रबाबू नायडू पर अविभाजित आंध्रप्रदेश के दौरान अपने कई समर्थकों के साथ महाराष्ट्र में बाबली परियोजना के समीप विरोध करने का आरोप है। विरोध करने पर उन्हें समर्थकों के साथ गिरफ्तार करने के बाद पुणे की जेल में डाल दिया गया था। हालांकि बाद में उन्हें बिना जमानत मांगे ही रिहा कर दिया गया था। 


ये भी पढ़ें - तेल की ‘धार’ में तेजी जारी, पेट्रोल की दर में 28 पैसे का इजाफा डीजल भी 22 पैसे बढ़ा

यहां बता दें कि चंद्रबाबू नायडू का कहना था कि बाबली परियोजना से निचले इलाकों में रहने वालों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा। परियोजना का विरोध करने पर उनपर जनसेवक को काम करने में बाधा पहुंचाने के लिए हमला या आपराधिक बल प्रयोग करने, हथियार या किसी अन्य तरीके से जानबूझकर जख्म पहुंचाना, अन्य की जिंदगी खतरे में डालने समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराएं लगायी गयी हैं। 

Todays Beets: