Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

सरकार गिरते ही जम्मू कश्मीर की राजनीति में उथल-पुथल शुरू, पीडीपी के कई नेता छोड़ सकते हैं साथ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार गिरते ही जम्मू कश्मीर की राजनीति में उथल-पुथल शुरू, पीडीपी के कई नेता छोड़ सकते हैं साथ

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन वाली सरकार के गिरते ही पीडीपी के विधायकों और नेताओं को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। ये नेता अब एक बार फिर से कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस में जाने का मन बनाने लगे हैं। गौर करने वाली बात है कि कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के कई पूर्व विधायक 2014 से पहले पीडीपी में शामिल हुए थे। वह अब घर वापसी की राह पर दिख रहे हैं।

गौरतलब है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत मुफ्ती मोहम्मद सईद के विचारों और उनकी बेहतर प्रशासनिक कुशलता के कारण कश्मीर और जम्मू के डोडा, पुंछ क्षेत्र के कई नेताओं ने पीडीपी का हाथ थामा था। महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में अब इन नेताओं को अपना कोई भविष्य नहीं दिख रहा है। वर्ष 2016 में पीडीपी के श्रीनगर की संसदीय सीट खोने के बाद से ही पत्थरबाजी और आतंकी घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। 


ये भी पढ़ें- LIVE: अनंतनाग में सेना और आतंकियों के बीच एनकाउंटर जारी, 3 आतंकियों के छिपे होने की खबर

यहां बता दें कि पार्टी के नाराज नेताओं को एकजुट रखना महबूबा मुफ्ती के लिए एक बड़ी चुनौती है। गठबंधन की सरकार चलने की वजह से जो नेता साथ दे रहे थे वे सरकार गिरने के बाद से गुपचुप तरीके से कांग्रेस और नेकां से संपर्क साधना शुरू कर दिया है। फिलहाल कोई भी विधायक खुलकर पार्टी छोड़ने की बात नहीं कर रहा है लेकिन अंदरखाने वे भविष्य के लिए अपने राजनीतिक समीकरण बिठाने में जुट गए हैं। 

Todays Beets: