Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

सरकार गिरते ही जम्मू कश्मीर की राजनीति में उथल-पुथल शुरू, पीडीपी के कई नेता छोड़ सकते हैं साथ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार गिरते ही जम्मू कश्मीर की राजनीति में उथल-पुथल शुरू, पीडीपी के कई नेता छोड़ सकते हैं साथ

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन वाली सरकार के गिरते ही पीडीपी के विधायकों और नेताओं को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। ये नेता अब एक बार फिर से कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस में जाने का मन बनाने लगे हैं। गौर करने वाली बात है कि कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के कई पूर्व विधायक 2014 से पहले पीडीपी में शामिल हुए थे। वह अब घर वापसी की राह पर दिख रहे हैं।

गौरतलब है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत मुफ्ती मोहम्मद सईद के विचारों और उनकी बेहतर प्रशासनिक कुशलता के कारण कश्मीर और जम्मू के डोडा, पुंछ क्षेत्र के कई नेताओं ने पीडीपी का हाथ थामा था। महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में अब इन नेताओं को अपना कोई भविष्य नहीं दिख रहा है। वर्ष 2016 में पीडीपी के श्रीनगर की संसदीय सीट खोने के बाद से ही पत्थरबाजी और आतंकी घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। 


ये भी पढ़ें- LIVE: अनंतनाग में सेना और आतंकियों के बीच एनकाउंटर जारी, 3 आतंकियों के छिपे होने की खबर

यहां बता दें कि पार्टी के नाराज नेताओं को एकजुट रखना महबूबा मुफ्ती के लिए एक बड़ी चुनौती है। गठबंधन की सरकार चलने की वजह से जो नेता साथ दे रहे थे वे सरकार गिरने के बाद से गुपचुप तरीके से कांग्रेस और नेकां से संपर्क साधना शुरू कर दिया है। फिलहाल कोई भी विधायक खुलकर पार्टी छोड़ने की बात नहीं कर रहा है लेकिन अंदरखाने वे भविष्य के लिए अपने राजनीतिक समीकरण बिठाने में जुट गए हैं। 

Todays Beets: