Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

नई दिल्ली। बिहार के भागलपुर में  एक धार्मिक जुलुस के दौरान भड़के दंगे पर प्रतिक्रिया देते हुए केन्द्र में राज्य मंत्री अश्विनी चौबे  ने कहा  कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है कि उनका बेटा स्वयंसेवक है। बता दें कि उनके बेटे अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा था कि उसने जानबूझकर रैली उन्हीं इलाकों में आयोजित कराई जहां मुस्लिम ज्यादा तादाद में रहते हैं ताकि धार्मिक भावनाओं को भड़काया जा सके। 

गौरतलब है कि अश्विनी चैबे ने कहा कि जिस वक्त ऐसा हुआ उस वक्त वे पटना में थे और उनके आगे पुलिस की गाड़ी चल रही थी, वीडियो क्लीपिंग में इस बात की जानकारी मिल सकती है। आपको बता दें कि अश्विनी चौबे ने कहा कि धार्मिक जुलुस मंे कुछ अराजक तत्व घुस गए, पुलिस उन लोगों को पकड़ने के बजाय अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा रही है। चौबे ने अपने बेटे का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है। 


ये भी पढ़ें - अब आॅनलाइन टिकट के साथ कैब की कर सकेंगे बुक, आईआरसीटीसी और ओला के बीच हुआ करार

यहां बता दें कि भागलपुर के नाथनगर इलाके में 3 मार्च को एक धार्मिक जुलुस के दौरान दो समुदायों के बीच झड़प हो गई थी जिसके बाद विवाद बढ़ने पर दोनों ओर से पत्थरबाजी भी की गई थी। उन्होंने कहा कि मैं घटना स्थल से तीन-चार किलोमीटर दूर था। तभी पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस बात को लेकर बिहार विधानसभा  में भी काफी हंगामा हुआ था और उसकी कार्यवाही को स्थगित करनी पड़ी थी।  उन्होंने कहा कि यह गौरव की बात है कि पुलिस की निगरानी में सभी नियमों का पालन करते हुए इस रैली का आयोजन करवाया गया।  पुलिस के मुताबिक दो समुदायों के बीच हुई इस झड़प में तीन पुलिसवाले जख्मी हो गए हैं। पुलिस अधिकारी से मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, पत्थरबाजी 45 मिनटों तक चलती रही। 

Todays Beets: