Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

नई दिल्ली। बिहार के भागलपुर में  एक धार्मिक जुलुस के दौरान भड़के दंगे पर प्रतिक्रिया देते हुए केन्द्र में राज्य मंत्री अश्विनी चौबे  ने कहा  कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है कि उनका बेटा स्वयंसेवक है। बता दें कि उनके बेटे अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा था कि उसने जानबूझकर रैली उन्हीं इलाकों में आयोजित कराई जहां मुस्लिम ज्यादा तादाद में रहते हैं ताकि धार्मिक भावनाओं को भड़काया जा सके। 

गौरतलब है कि अश्विनी चैबे ने कहा कि जिस वक्त ऐसा हुआ उस वक्त वे पटना में थे और उनके आगे पुलिस की गाड़ी चल रही थी, वीडियो क्लीपिंग में इस बात की जानकारी मिल सकती है। आपको बता दें कि अश्विनी चौबे ने कहा कि धार्मिक जुलुस मंे कुछ अराजक तत्व घुस गए, पुलिस उन लोगों को पकड़ने के बजाय अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा रही है। चौबे ने अपने बेटे का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है। 


ये भी पढ़ें - अब आॅनलाइन टिकट के साथ कैब की कर सकेंगे बुक, आईआरसीटीसी और ओला के बीच हुआ करार

यहां बता दें कि भागलपुर के नाथनगर इलाके में 3 मार्च को एक धार्मिक जुलुस के दौरान दो समुदायों के बीच झड़प हो गई थी जिसके बाद विवाद बढ़ने पर दोनों ओर से पत्थरबाजी भी की गई थी। उन्होंने कहा कि मैं घटना स्थल से तीन-चार किलोमीटर दूर था। तभी पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस बात को लेकर बिहार विधानसभा  में भी काफी हंगामा हुआ था और उसकी कार्यवाही को स्थगित करनी पड़ी थी।  उन्होंने कहा कि यह गौरव की बात है कि पुलिस की निगरानी में सभी नियमों का पालन करते हुए इस रैली का आयोजन करवाया गया।  पुलिस के मुताबिक दो समुदायों के बीच हुई इस झड़प में तीन पुलिसवाले जख्मी हो गए हैं। पुलिस अधिकारी से मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, पत्थरबाजी 45 मिनटों तक चलती रही। 

Todays Beets: