Sunday, October 21, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भागलपुर में दंगा फैलाने के आरोप पर अश्विनी चौबे का पलटवार, कहा- मुझे बेटे पर गर्व है

नई दिल्ली। बिहार के भागलपुर में  एक धार्मिक जुलुस के दौरान भड़के दंगे पर प्रतिक्रिया देते हुए केन्द्र में राज्य मंत्री अश्विनी चौबे  ने कहा  कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है कि उनका बेटा स्वयंसेवक है। बता दें कि उनके बेटे अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा था कि उसने जानबूझकर रैली उन्हीं इलाकों में आयोजित कराई जहां मुस्लिम ज्यादा तादाद में रहते हैं ताकि धार्मिक भावनाओं को भड़काया जा सके। 

गौरतलब है कि अश्विनी चैबे ने कहा कि जिस वक्त ऐसा हुआ उस वक्त वे पटना में थे और उनके आगे पुलिस की गाड़ी चल रही थी, वीडियो क्लीपिंग में इस बात की जानकारी मिल सकती है। आपको बता दें कि अश्विनी चौबे ने कहा कि धार्मिक जुलुस मंे कुछ अराजक तत्व घुस गए, पुलिस उन लोगों को पकड़ने के बजाय अरिजीत शाश्वत पर आरोप लगा रही है। चौबे ने अपने बेटे का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है। 


ये भी पढ़ें - अब आॅनलाइन टिकट के साथ कैब की कर सकेंगे बुक, आईआरसीटीसी और ओला के बीच हुआ करार

यहां बता दें कि भागलपुर के नाथनगर इलाके में 3 मार्च को एक धार्मिक जुलुस के दौरान दो समुदायों के बीच झड़प हो गई थी जिसके बाद विवाद बढ़ने पर दोनों ओर से पत्थरबाजी भी की गई थी। उन्होंने कहा कि मैं घटना स्थल से तीन-चार किलोमीटर दूर था। तभी पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस बात को लेकर बिहार विधानसभा  में भी काफी हंगामा हुआ था और उसकी कार्यवाही को स्थगित करनी पड़ी थी।  उन्होंने कहा कि यह गौरव की बात है कि पुलिस की निगरानी में सभी नियमों का पालन करते हुए इस रैली का आयोजन करवाया गया।  पुलिस के मुताबिक दो समुदायों के बीच हुई इस झड़प में तीन पुलिसवाले जख्मी हो गए हैं। पुलिस अधिकारी से मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, पत्थरबाजी 45 मिनटों तक चलती रही। 

Todays Beets: