Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

नेपाल का भारत से उठा भरोसा, थाम लिया 'दुश्मन देश' चीन का हाथ, जनता पछता रही

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नेपाल का भारत से उठा भरोसा, थाम लिया

नई दिल्ली । आखिरकार नेपाल ने भारत का साथ छोड़कर मदद के लिए हमारे 'दुश्मन देश' नेपाल का साथ थाम लिया है। असल में नेपाल ने अपने देश में इंटरनेट चलाने के लिए भारत के सहयोग को नकारते हुए इस बार चीन का रुख किया है। शुक्रवार से नेपाल में इंटरनेट हिमालय पार से बिछाई गई चीन की ऑप्टिकल फाइबर की मदद से चला। चीन की मदद से नेपाल के रसुवगाढ़ी बॉर्डर पर 1.5 गीगा-बाइट्स/सेकेंड (GBPS) की स्पीड मिलेगी। हालांकि, ये स्पीड भारत के 34 GBPS की स्पीड से काफी कम है। हालांकि अभी तक नेपाल इंटरनेट इस्तेमाल के मामले में पूरी तरह भारत पर निर्भर था लेकिन 2016 में हुए एक समझौते के चलते अब नेपाल को चीन से इंटरनेट सेवाएं मिलने का रास्ता साफ हो गया था और अब नेपाल में चीन की मदद से इंटरनेट सेवाएं चल रही हैं। 

ये भी पढ़ें- पी चिदंबरम और बेटे कार्ति पर ईडी ने कसा शिकंजा, दिल्ली और चेन्नई के ठिकानों पर छापेमारी जारी

नेपाल के सूचना प्रसारण मंत्री मोहन बहादुर बसनेट ने शुक्रवार को एक समारोह के दौरान नेपाल-चीन क्रॉस बॉर्डर ऑप्टिकल फाइबर लिंक की शुरूआत की। इस दौरान बसनेट ने कहा कि चीन और नेपाल में ऑप्टिकल फाइबर लिंक स्थापित होना एक मील का पत्थर है। इससे देशभर का इंटरनेट इन्फ्रास्ट्रक्चर काफी विकसित होगा।  वहीं नेपाल में चीन के अम्बेस्डर यू होंग ने कहा कि दोनों देशों ने न सिर्फ इंटरनेट कनेक्शन की दूरी कम की है बल्कि बिजनेस में भी एक-दूसरे के लिए नई क्षमताएं खड़ीं कर दी हैं। 


ये भी पढ़ें- गोरखपुर महोत्सव में मालिनी अवस्थी और रविकिशन के कार्यक्रम में भीड़ हुई बेकाबू, पुलिस ने किया ल...

बता दें कि 2016 में नेपाल टेलीकॉम और चीन टेलीकम्युनिकेशन के बीच एक समझौता हुआ था। इस समझौते के तहत चीन को नेपाल तक हाई स्पीड इंटरनेट सेवाएं देनी हैं। हालांकि नेपाल को अब जो सेवाएं मिलनी शुरू हुई हैं वह भारत से मिल रही स्पीड के मामले में काफी कम है। ऐसे में आने वाले समय बताएगा कि नेपाल ने इंटरनेट सेवाओं के मामले में चीन का रुख करके कितना फायदा पाया है।

Todays Beets: