Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पर्यावरण सुरक्षा को लेकर एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड को लगाई फटकार, मांगी रिपोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पर्यावरण सुरक्षा को लेकर एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड को लगाई फटकार, मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। प्रदूषण के मामले पर दिल्ली सरकार को लताड़ लगाने वाली नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने अमरनाथ बोर्ड से भी वहां की सुविधाओं को लेकर रिपोर्ट मांगी है। इसके लिए एनजीटी ने एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी जांच के बाद मंदिर के आस-पास की स्वच्छता, उचित मार्ग मुहैया कराए जाने जैसे कई पहलुओं पर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इसे दिसंबर के पहले हफ्ते में अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है। बता दें कि एनजीटी ने हाल ही में वैष्णों देवी मंदिर में भक्तों के दवाब को कम करने के लिए एक बार में 50 हजार श्रद्धालुओं को ही मंदिर के दर्शन करने की इजाजत दी है।

निर्देशों का पालन क्यों नहीं

गौरतलब है कि अमरनाथ यात्रा के दौरान भक्तों की सुविधा के लिए वहां अस्थाई शौचालय और अन्य सुविधाएं तैयार की जाती हैं लेकिन यात्रा खत्म होने के इतने समय बाद भी उन्हें वहां से हटाया नहीं गया है। एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड से इस बात की रिपोर्ट मांगी है कि 2012 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन क्यों नहीं किया गया? एनजीटी ने मंदिर में चढ़ाए गए फूलों और अन्य सामग्रियों को वहां नहीं फेंकने के निर्देश दिए हैं। वहीं हिमस्खलन को रोकने के लिए उस क्षेत्र को ‘साइलेंस जोन’ घोषित करने के भी निर्देश दिए हैं। 


ये भी पढ़ें - टल गया राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना, अब गुजरात-हिमाचल विधानसभा के नतीजे तय करेंगे राज...

यात्रियों की संख्या सीमित हो

गौरतलब है कि इससे पहले एनजीटी ने पर्यावरण सुरक्षा और अधिकारियों का भार कम करने के लिए माता वैष्णो देवी के दर्शन को जाने वाले यात्रियों की संख्या नियंत्रित कर एक दिन में 50 हजार कर दी है। इसके साथ ही वहां किसी भी तरह के निर्माण संबंधी गतिविधियों को रोकने का भी निर्देश दिया है।

Todays Beets: