Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

पर्यावरण सुरक्षा को लेकर एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड को लगाई फटकार, मांगी रिपोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पर्यावरण सुरक्षा को लेकर एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड को लगाई फटकार, मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। प्रदूषण के मामले पर दिल्ली सरकार को लताड़ लगाने वाली नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने अमरनाथ बोर्ड से भी वहां की सुविधाओं को लेकर रिपोर्ट मांगी है। इसके लिए एनजीटी ने एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी जांच के बाद मंदिर के आस-पास की स्वच्छता, उचित मार्ग मुहैया कराए जाने जैसे कई पहलुओं पर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इसे दिसंबर के पहले हफ्ते में अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है। बता दें कि एनजीटी ने हाल ही में वैष्णों देवी मंदिर में भक्तों के दवाब को कम करने के लिए एक बार में 50 हजार श्रद्धालुओं को ही मंदिर के दर्शन करने की इजाजत दी है।

निर्देशों का पालन क्यों नहीं

गौरतलब है कि अमरनाथ यात्रा के दौरान भक्तों की सुविधा के लिए वहां अस्थाई शौचालय और अन्य सुविधाएं तैयार की जाती हैं लेकिन यात्रा खत्म होने के इतने समय बाद भी उन्हें वहां से हटाया नहीं गया है। एनजीटी ने अमरनाथ श्राइन बोर्ड से इस बात की रिपोर्ट मांगी है कि 2012 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन क्यों नहीं किया गया? एनजीटी ने मंदिर में चढ़ाए गए फूलों और अन्य सामग्रियों को वहां नहीं फेंकने के निर्देश दिए हैं। वहीं हिमस्खलन को रोकने के लिए उस क्षेत्र को ‘साइलेंस जोन’ घोषित करने के भी निर्देश दिए हैं। 


ये भी पढ़ें - टल गया राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना, अब गुजरात-हिमाचल विधानसभा के नतीजे तय करेंगे राज...

यात्रियों की संख्या सीमित हो

गौरतलब है कि इससे पहले एनजीटी ने पर्यावरण सुरक्षा और अधिकारियों का भार कम करने के लिए माता वैष्णो देवी के दर्शन को जाने वाले यात्रियों की संख्या नियंत्रित कर एक दिन में 50 हजार कर दी है। इसके साथ ही वहां किसी भी तरह के निर्माण संबंधी गतिविधियों को रोकने का भी निर्देश दिया है।

Todays Beets: