Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

आॅनलाइन शाॅपिंग करने वालों को अगले महीने से लगेगा झटका, देना होगा ज्याद टैक्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आॅनलाइन शाॅपिंग करने वालों को अगले महीने से लगेगा झटका, देना होगा ज्याद टैक्स

नई दिल्ली। बाजार जाने के झंझट से बचने के लिए आॅनलाइन शाॅपिंग का आनंद उठाने वाले सावधान हो जाएं। अगले महीने से इसके लिए आपको ज्यादा टैक्स चुकाना पड़ेगा। सरकार ने 1 अक्टूबर 2018 से सभी ई-काॅमर्स कंपनियों के लिए टैक्स कलेक्टेड एट सोर्स (टीसीएस) और टैक्स डिटेक्टेड एट सोर्स (टीडीएस) पर 1 फीसदी कर लगाने का फैसला लिया है। यहां बता दें कि केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) अधिनियम के अनुसार अधिसूचित कंपनियों को 2.5 लाख रुपये से अधिक की वस्तुओं या सेवाओं की आपूर्ति के भुगतान पर 1 फीसदी टीडीएस काटना जरूरी होगा। साथ ही, राज्य कानूनों के तहत राज्य 1 फीसदी टीडीएस वसूलेंगे।  

गौरतलब है कि पूरे देश में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) 1 जुलाई 2017 को लागू किया था। चूंकि कारोबारी उस समय पूरी तरह से तैयार नहीं थे इसलिए इसे 30 अक्टूबर 2018 तक के लिए टाल दिया गया था।  अब 18 सितंबर से इसके लिए पंजीकरण का काम शुरू कर दिया जाएगा। सरकार के इस कदम के बाद कारोबारियों को जल्दी ही अपने सिस्टम में बदलाव करना पड़ेगा। नई व्यवस्था से ई-काॅमर्स कंपनियों की सही कमाई का पता लग सकेगा, साथ ही प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर की चोरी पर भी लगाम लगेगी। 


ये भी पढ़ें- जेल से रिहा होती की भाजपा के खिलाफ दहाड़ा ‘रावण’, 2019 में उखाड़ फेंकने की अपील

यहां बता दें कि इस वित्त वर्ष में रिकाॅर्ड जीएसटी का कलेक्शन किया गया है। आर्थिक विशेषज्ञों का मानना है कि टैक्स कलेक्शन में बढ़ोतरी के मकसद से ही सरकार ने यह कदम उठाया है। 

Todays Beets: