Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने उड़ाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां, हवा हुई जानलेवा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने उड़ाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां, हवा हुई जानलेवा

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर दिल्ली-एनसीआर में जमकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ाई गई। रात को 10 बजे के बाद भी लोगांे ने खूब आतिशबाजियां कीं जिससे हवा में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है। गुरुवार की सुबह वातावरण में कोहरे की एक चादर फैली रही जिससे लोगों को सांस लेने में काफी परेशानी महसूस हो रही है। डाॅक्टरों के द्वारा लोगों को सुबह के समय घरों से बाहर न निकलने की सलाह दी जा रही है।

गौरतलब है कि हवा में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिल्ली-एनसीआर में सिर्फ ग्रीन पटाखे चलाने का आदेश दिया था। कोर्ट के द्वारा पटाखे चलाने का वक्त 8 से 10 बजे तक तय किया था लेकिन लोगों ने सर्वोच्च अदालत के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई और देर रात तक पटाखे जलाए। ऐसे में हवा में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है। दिल्ली के जहांगीरपुरी में हवा में पीएम का स्तर सामान्य से 55 गुना ज्यादा पाया गया है। 


ये भी पढ़ें - रालोसपा नेता की तल्खी नहीं हो रही कम, बढ़ी लोकप्रियता के हिसाब से मांगी सीटें

यहां बता दें कि दिवाली के दौरान चलाए जाने वाले पटाखों की वजह से लोगों के साथ जानवरों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। खासकर अस्थमा के मरीजों को पटाखों की वजह से फैले धुएं से कई सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गौर करने वाली बात है कि उच्चतम न्यायालय ने पुलिस से इस बात को सुनिश्चित करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो और किसी भी उल्लंघन की स्थिति में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह अदालत की अवमानना होगी। उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों से उल्लंघन किए जाने की खबरें मिली हैं। 

Todays Beets: