Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने उड़ाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां, हवा हुई जानलेवा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने उड़ाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां, हवा हुई जानलेवा

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर दिल्ली-एनसीआर में जमकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ाई गई। रात को 10 बजे के बाद भी लोगांे ने खूब आतिशबाजियां कीं जिससे हवा में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है। गुरुवार की सुबह वातावरण में कोहरे की एक चादर फैली रही जिससे लोगों को सांस लेने में काफी परेशानी महसूस हो रही है। डाॅक्टरों के द्वारा लोगों को सुबह के समय घरों से बाहर न निकलने की सलाह दी जा रही है।

गौरतलब है कि हवा में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिल्ली-एनसीआर में सिर्फ ग्रीन पटाखे चलाने का आदेश दिया था। कोर्ट के द्वारा पटाखे चलाने का वक्त 8 से 10 बजे तक तय किया था लेकिन लोगों ने सर्वोच्च अदालत के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई और देर रात तक पटाखे जलाए। ऐसे में हवा में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है। दिल्ली के जहांगीरपुरी में हवा में पीएम का स्तर सामान्य से 55 गुना ज्यादा पाया गया है। 


ये भी पढ़ें - रालोसपा नेता की तल्खी नहीं हो रही कम, बढ़ी लोकप्रियता के हिसाब से मांगी सीटें

यहां बता दें कि दिवाली के दौरान चलाए जाने वाले पटाखों की वजह से लोगों के साथ जानवरों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। खासकर अस्थमा के मरीजों को पटाखों की वजह से फैले धुएं से कई सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गौर करने वाली बात है कि उच्चतम न्यायालय ने पुलिस से इस बात को सुनिश्चित करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो और किसी भी उल्लंघन की स्थिति में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह अदालत की अवमानना होगी। उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों से उल्लंघन किए जाने की खबरें मिली हैं। 

Todays Beets: