Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

LIVE: पीएम ने किया केएमपी एक्सप्रेसवे का लोकार्पण, कहा-सरकार की इच्छाशक्ति की नतीजा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE: पीएम ने किया केएमपी एक्सप्रेसवे का लोकार्पण, कहा-सरकार की इच्छाशक्ति की नतीजा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुग्राम में सोमवार को कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) 6 लेन  एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया। इस मौके पर जनविकास रैली को संबोधित करते हुए कहा कि इससे जहां एक तरफ दूरियां कम होगी वहां दिल्ली के दिल पर से गाड़ियों के बोझ को भी कम करने में मदद मिलेगी। पीएम ने कहा कि करीब 6400 करोड़ रुपये की लागत से करीब 136 किलोमीटर की यह सड़क तैयार किया गया है। पीएम ने इस मौके पर पिछली सरकार पर भी तंज किया। उन्होंने कहा कि इस एक्सप्रेसवे को साल दिल्ली में हुए काॅमनवेल्थ गेम्स के समय ही शुरू होने थे लेकिन सरकार की सुस्ती की वजह से यह काम पूरा नहीं हो पाया। 

गौरतलब है कि पीएम ने कांग्रेस की सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि एक प्रोजेक्ट को पूरा होने में 12 साल का वक्त लग गया। यह उन सरकारों के काम के प्रति गंभीरता को दिखाता है। इसके साथ ही पीएम दिल्ली मेट्रो के वायलट लाइन (बदरपुर-एस्कॉट्स मुजेसर) एक्सटेंशन प्रोजेक्ट का भी शुभारंभ किया। पीएम ने एनडीए सरकार के द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों के बारे में बताते हुए कहा कि पिछली सरकारों ने सिर्फ देश के काम को अटकाने, भटकाने और लटकाने का काम किया। उन्होंने कहा कि एनडीए की सरकार आने के बाद भी आॅफिस वही है, फाइलें वही हैं और लोग भी वही हैं लेकिन काम करने की इच्छाशक्ति की वजह से यह काम पूरा हो पाया है। 


ये भी पढ़ें - डिफाॅल्टरों के नाम सार्वजनिक नहीं करने पर सीआईसी सख्त, पीएमओ और आरबीआई को लगाई फटकार

यहां बता दें कि उन्होंने कहा कि अगर यह सड़क अपने तय वक्त पर पूरा हो गया होता तो आज देश को विकास के रास्ते पर ले जाने वाले दूसरे कार्य किए जा सकते थे लेकिन सिर्फ बाबूशाही की वजह से काम में देरी होती गई और लागत बढ़ता गया। गौर करने वाली बात है कि करीब 136 किलोमीटर लंबी इस सड़क को बनाने में करीब 6400 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इस 6 लेन वाली सड़क पर 4 ब्रिज, 34 अंडरपास और पैदल यात्रियों की परेशानियों को ध्यान में रखते हुए 64 सबवे बनाए गए हैं। इस सड़क के शुरू होने से अब रोजाना करीब 50 हजार गाड़ियां दिल्ली के बाहर से ही निकल जाएंगी जिससे यहां प्रदूषण पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी। 

Todays Beets: