Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

आखिरी बजट में किसानों के प्रति वसुंधरा का उमड़ा प्यार, कहा-50 हजार तक के कर्ज होंगे माफ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरी बजट में किसानों के प्रति वसुंधरा का उमड़ा प्यार, कहा-50 हजार तक के कर्ज होंगे माफ

जयपुर। राजस्थान के उपचुनाव में अपनी सीटें हारने के बाद मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने  सोमवार को अपना बजट भाषण दिया जिसमें किसानों को बड़ी राहत देने की बात कही गई है। मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में किसानों के 50 हजार रुपए तक के कर्ज माफ करने का ऐलान किया है। राजस्थान सरकार की इस घोषणा से प्रदेश पर करीब 8000 करोड़ का वित्तीय भार पड़ेगा। साथ ही लघु और सीमांत कृषकों के ब्याज माफ की भी घोषणा की है।

सरकार का आखिरी बजट

गौरतलब है कि उपचुनाव में हारने के बाद सरकार ने प्रदेश के किसानों को साधने की कोशिश की है। इससे पहले कृषि मंत्री प्रभूलाल सैनी ने बजट से ठीक पहले इसे लेकर बजट में किसानों के हित में नई घोषणाओं की ओर इशारा किया था। बता दें कि विधानसभा चुनाव में जाने से पहले प्रदेश की भाजपा सरकार का यह आखिरी बजट है और किसानों को भी सरकार से काफी उम्मीदें हैं। 

किसान बेहाल

यहां गौर करने वाली बात है कि राज्य के कृषि बजट में 62 फीसदी की बढोतरी हुई है और पिछले चार साल में भाजपा सरकार द्वारा कृषि के लिए 9 हजार 551 करोड़ रुपए का बजट प्रावधान किया गया है। इतने रुपये के बजट के बावजूद प्रदेश में किसानों की हालत अच्छी नहीं है। 

ये भी पढ़ें - शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष का मुस्लिम लाॅ बोर्ड पर बड़ा हमला, आतंकवादी संगठन बताते हुए भंग करन...

किसानों की अपेक्षाएं

- फसल बीमा राशि के प्रीमियम को कम किया जाए

- सभी फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाए

- किसानों की सामाजिक सुरक्षा के लिए एक्ट बनाया जाए


- किसानों को खेती के लिए पर्याप्त बिजली उपलब्ध करवाई जाए

- ड्रिप सिस्टम, कीटनाशक सहित दूसरे कृषि आदानों से जीएसटी हटाया जाए

- सोलर पंप किसान को एक समान दर पर उपलब्ध कराया जाए साथ ही विद्युत कनेक्शन लौटाने की शर्त हटाई जाए

- किसानों को पुराने फार्म पौंड के जीर्णोद्धार के लिए अनुदान दिया जाए

- पेटा काश्त भूमि का अस्थायी आवंटन किसानों को किया जाए

- कृषक मित्र और कृषक विशेषज्ञों का मानदेय और भत्ता बढाया जाए

- किसान की आय बढाने के लिए किसान की टुकड़ों में बंटी भूमि का एकीकरण किया जाए

- जैविक कृषि आदान की जांच के लिए जिला मुख्यालयों पर जैविक आदान लैब स्थापित की जाए

- ड्रिप और सोलर पंप पर अनुदान में बढ़ोतरी की जाए

 

Todays Beets: