Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

आखिरी बजट में किसानों के प्रति वसुंधरा का उमड़ा प्यार, कहा-50 हजार तक के कर्ज होंगे माफ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरी बजट में किसानों के प्रति वसुंधरा का उमड़ा प्यार, कहा-50 हजार तक के कर्ज होंगे माफ

जयपुर। राजस्थान के उपचुनाव में अपनी सीटें हारने के बाद मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने  सोमवार को अपना बजट भाषण दिया जिसमें किसानों को बड़ी राहत देने की बात कही गई है। मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में किसानों के 50 हजार रुपए तक के कर्ज माफ करने का ऐलान किया है। राजस्थान सरकार की इस घोषणा से प्रदेश पर करीब 8000 करोड़ का वित्तीय भार पड़ेगा। साथ ही लघु और सीमांत कृषकों के ब्याज माफ की भी घोषणा की है।

सरकार का आखिरी बजट

गौरतलब है कि उपचुनाव में हारने के बाद सरकार ने प्रदेश के किसानों को साधने की कोशिश की है। इससे पहले कृषि मंत्री प्रभूलाल सैनी ने बजट से ठीक पहले इसे लेकर बजट में किसानों के हित में नई घोषणाओं की ओर इशारा किया था। बता दें कि विधानसभा चुनाव में जाने से पहले प्रदेश की भाजपा सरकार का यह आखिरी बजट है और किसानों को भी सरकार से काफी उम्मीदें हैं। 

किसान बेहाल

यहां गौर करने वाली बात है कि राज्य के कृषि बजट में 62 फीसदी की बढोतरी हुई है और पिछले चार साल में भाजपा सरकार द्वारा कृषि के लिए 9 हजार 551 करोड़ रुपए का बजट प्रावधान किया गया है। इतने रुपये के बजट के बावजूद प्रदेश में किसानों की हालत अच्छी नहीं है। 

ये भी पढ़ें - शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष का मुस्लिम लाॅ बोर्ड पर बड़ा हमला, आतंकवादी संगठन बताते हुए भंग करन...

किसानों की अपेक्षाएं

- फसल बीमा राशि के प्रीमियम को कम किया जाए

- सभी फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाए

- किसानों की सामाजिक सुरक्षा के लिए एक्ट बनाया जाए


- किसानों को खेती के लिए पर्याप्त बिजली उपलब्ध करवाई जाए

- ड्रिप सिस्टम, कीटनाशक सहित दूसरे कृषि आदानों से जीएसटी हटाया जाए

- सोलर पंप किसान को एक समान दर पर उपलब्ध कराया जाए साथ ही विद्युत कनेक्शन लौटाने की शर्त हटाई जाए

- किसानों को पुराने फार्म पौंड के जीर्णोद्धार के लिए अनुदान दिया जाए

- पेटा काश्त भूमि का अस्थायी आवंटन किसानों को किया जाए

- कृषक मित्र और कृषक विशेषज्ञों का मानदेय और भत्ता बढाया जाए

- किसान की आय बढाने के लिए किसान की टुकड़ों में बंटी भूमि का एकीकरण किया जाए

- जैविक कृषि आदान की जांच के लिए जिला मुख्यालयों पर जैविक आदान लैब स्थापित की जाए

- ड्रिप और सोलर पंप पर अनुदान में बढ़ोतरी की जाए

 

Todays Beets: