Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

रेहिंग्याओं ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई गुहार, केंद्र ने हलफनामा पेश कर देश के लिए बताया खतरा

अंग्वाल संवाददाता
 रेहिंग्याओं ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई गुहार, केंद्र ने हलफनामा पेश कर देश के लिए बताया खतरा

श्रीनगर। जहां एक तरफ पीएम मोदी की सरकार देश में अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस म्यांमार भेजने के प्रयास कर रही है, तो वहीं दूसरी तरह जम्मू में रह रहे 7,000 रोहिंग्या शरणार्थियों ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर केंद्र सरकार द्वारा उन्हें वापस भेजने के आदेश को रोकने की मांग की है। याचिका में इन लोगों ने कहा कि सरकार का उन्हें कट्टरवादी कहना गलत है। वे मुसलमान हैं, इसलिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। जबकि तिब्बती शरणार्थियों के बारे में सरकार का यह रूख नहीं है।

यह भी पढ़े- अपने जन्मदिवस के मौके पर यह खास काम करेंगे प्रधानमंत्री मोदी 


बता दें कि रोहिंग्या मुसलमान जम्मू क्षेत्र में 23 कैंपों में रह रहे हैं। मुख्य न्यायधीश जस्टिस दीपक मिश्रा की पीठ ने कहा कि इस मामले में सोमवार को अन्य संबंधित याचिकाओं के साथ सुनवाई होगी। याचिका में शारणार्थियों ने कहा है कि वे किसी भी आंतकवादी गतिविधि में शामिल नहीं है। वे पुलिस को पूरा सहयोग करते हैं। सरकार उन्हें आंतकवादी घोषित कर रही है। यदि वापस म्यांमार भेजा गया तो उन्हें मार दिया जाएगा।

हाल ही में आरएसएस के विचारक गोविंदाचार्य और चेन्नई के इंडिया कलेक्टिव ट्रस्ट ने भी कोर्ट में अपनी याचिकाएं दायर की हैं, जिसमें इन रोहिंग्या शरणार्थियों को देश के लिए खतरनाक बताया गया है। साथ ही मांग की है कि रोहिंग्या शरणार्थियों को उनके देश वापस भेजा जाए। गोविंदाचार्य ने कहा कि इनकी मौजूदगी से देश का विभाजन हो सकता है। अलकायदा उन्हें जेहाद के नाम पर उकसा सकता है। ऐसी सूरत में यह भारतवासियों के लिए एक खतरा साबित हो सकते हैं। 

Todays Beets: