Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

'सहाराश्री' के खिलाफ सेबी पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, एंबी वैली की नीलामी में बाधा पहुंचाने का लगाया आरोप

अंग्वाल न्यूज डेस्क

नई दिल्ली। सहारा प्रमुख सुब्रत राय की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं हैं। सहारा के खिलाफ सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड आॅफ इंडिया (सेबी) ने सुप्रीम कोर्ट में अवामानना की याचिका दायर की है। सेबी ने कहा है कि सहारा एंबी वैली की नीलामी में रुकावट पैदा कर रहे हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने आफिशियल लिक्वीडेटर को निर्देश दिया है कि वह महाराष्ट्र में सहारा समूह की एंबी वैली नीलामी प्रक्रिया में आगे बढ़े। कोर्ट ने सहारा की ओर से भुगतान के लिए मोहलत को 11 नवंबर तक बढ़ाए जाने की मांग को खारिज कर दिया है। 

शानदार शहर

गौरतलब है कि एंबी वैली महाराष्ट्र में मुंबई से लगभग 120 किमी  दूर लोनावाला के पास मुंबई-पुणे हाईवे पर पहाड़ियों के बीच बसा एक बेहद ही खूबसूरत शहर है। एंबी वैली परियोजना 6,761.64 एकड़ क्षेत्र में फैली हुई है जो पहाड़ों के बीच स्थित है। सहारा की इस संपत्ति की कीमत 37,392 करोड़ रुपए आंकी गई है। 


ये भी पढ़ें - सेना के ऑपरेशन 'क्लीन स्वीप' के तहत 4 आतंकियों को किया ढेर, 2 जवान घायल

सुब्रत राय को झटका

आपको बता दें कि सेबी ने सर्वोच्च अदालत को इस बात की जानकारी दी कि सहारा ने अभी तक सभी निवेशकों का पैसा नहीं लौटाया है जबकि सहारा की तरफ से यह दलील दी गई कि उसने 75 फीसदी से ज्यादा लोगों के पैसे वापस कर दिए हैं। यहां बता दें कि पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने सहारा की उस याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें उन्होंने 1500 करोड़ रुपए में से बकाया 966.80 करोड़ रुपए जमा कराने के लिए 2 अतिरिक्त महीनों की मांग की थी। ऐसे में सहारा प्रमुख के लिए सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश एक बड़ा झटका माना जा रहा है जब उन्होंने कहा था निवेशकों की बकाया राशि में से करीब 533 करोड़ सेबी-सहारा खाते में जमा करा दिए हैं।  

Todays Beets: