Sunday, June 24, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधावर को नालाबिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाने के लिए उम्रसीमा घटाने संबंधी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए साफ कर दिया कि इसके लिए समय सीमा नहीं घटाई जा सकती। 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए, यह सवाल पूछती की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने साफ कर दिया है कि इसे अपराध माना जाएगा। असल में भारतीय दंड संहिता 375 (2) कानून का यह अपवाद कहता है कि अगर 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा जबकि बाल विवाह कानून के मुताबिक-शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए। 

बता दें कि 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए ? इस सवाल को लेकर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार की ओर कहा गया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के अपवाद को बनाए रखा जाना चाहिए, जो पति को सरंक्षण देता है। वहीं बाल विवाह मामलों में यह सरंक्षण जरूरी है।  इसके साथ ही कोर्ट ने शीर्ष अदालत से अनुरोध किया था कि वह इस धारा को रद्द न करे और संसद को इस पर विचार करने और फैसला करने के लिए समयसीमा तय कर दे।  


केंद्र सरकार की ओर से पक्ष रखते हुए कहा गया था कि भारत में बाल विवाह एक सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है। कोर्ट इसमें दखल न दे। हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से दलील दिए जाने पर कि ये परंपरा सदियों से चली आ रही है इसलिए संसद इसे संरक्षण दे रहा है। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी लेकिन उसे भी खत्म किया गया, जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो। 

Todays Beets: