Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधावर को नालाबिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाने के लिए उम्रसीमा घटाने संबंधी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए साफ कर दिया कि इसके लिए समय सीमा नहीं घटाई जा सकती। 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए, यह सवाल पूछती की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने साफ कर दिया है कि इसे अपराध माना जाएगा। असल में भारतीय दंड संहिता 375 (2) कानून का यह अपवाद कहता है कि अगर 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा जबकि बाल विवाह कानून के मुताबिक-शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए। 

बता दें कि 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए ? इस सवाल को लेकर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार की ओर कहा गया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के अपवाद को बनाए रखा जाना चाहिए, जो पति को सरंक्षण देता है। वहीं बाल विवाह मामलों में यह सरंक्षण जरूरी है।  इसके साथ ही कोर्ट ने शीर्ष अदालत से अनुरोध किया था कि वह इस धारा को रद्द न करे और संसद को इस पर विचार करने और फैसला करने के लिए समयसीमा तय कर दे।  


केंद्र सरकार की ओर से पक्ष रखते हुए कहा गया था कि भारत में बाल विवाह एक सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है। कोर्ट इसमें दखल न दे। हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से दलील दिए जाने पर कि ये परंपरा सदियों से चली आ रही है इसलिए संसद इसे संरक्षण दे रहा है। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी लेकिन उसे भी खत्म किया गया, जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो। 

Todays Beets: