Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधावर को नालाबिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाने के लिए उम्रसीमा घटाने संबंधी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए साफ कर दिया कि इसके लिए समय सीमा नहीं घटाई जा सकती। 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए, यह सवाल पूछती की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने साफ कर दिया है कि इसे अपराध माना जाएगा। असल में भारतीय दंड संहिता 375 (2) कानून का यह अपवाद कहता है कि अगर 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा जबकि बाल विवाह कानून के मुताबिक-शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए। 

बता दें कि 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए ? इस सवाल को लेकर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार की ओर कहा गया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के अपवाद को बनाए रखा जाना चाहिए, जो पति को सरंक्षण देता है। वहीं बाल विवाह मामलों में यह सरंक्षण जरूरी है।  इसके साथ ही कोर्ट ने शीर्ष अदालत से अनुरोध किया था कि वह इस धारा को रद्द न करे और संसद को इस पर विचार करने और फैसला करने के लिए समयसीमा तय कर दे।  


केंद्र सरकार की ओर से पक्ष रखते हुए कहा गया था कि भारत में बाल विवाह एक सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है। कोर्ट इसमें दखल न दे। हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से दलील दिए जाने पर कि ये परंपरा सदियों से चली आ रही है इसलिए संसद इसे संरक्षण दे रहा है। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी लेकिन उसे भी खत्म किया गया, जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो। 

Todays Beets: