Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नाबालिग पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना रेप माना जाएगा - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधावर को नालाबिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाने के लिए उम्रसीमा घटाने संबंधी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए साफ कर दिया कि इसके लिए समय सीमा नहीं घटाई जा सकती। 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए, यह सवाल पूछती की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने साफ कर दिया है कि इसे अपराध माना जाएगा। असल में भारतीय दंड संहिता 375 (2) कानून का यह अपवाद कहता है कि अगर 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा जबकि बाल विवाह कानून के मुताबिक-शादी के लिए महिला की उम्र 18 साल होनी चाहिए। 

बता दें कि 15 से 18 साल की पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाना क्या रेप माना जाए ? इस सवाल को लेकर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार की ओर कहा गया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के अपवाद को बनाए रखा जाना चाहिए, जो पति को सरंक्षण देता है। वहीं बाल विवाह मामलों में यह सरंक्षण जरूरी है।  इसके साथ ही कोर्ट ने शीर्ष अदालत से अनुरोध किया था कि वह इस धारा को रद्द न करे और संसद को इस पर विचार करने और फैसला करने के लिए समयसीमा तय कर दे।  


केंद्र सरकार की ओर से पक्ष रखते हुए कहा गया था कि भारत में बाल विवाह एक सामाजिक सच्चाई है और इस पर कानून बनाना संसद का काम है। कोर्ट इसमें दखल न दे। हालांकि केंद्र सरकार की तरफ से दलील दिए जाने पर कि ये परंपरा सदियों से चली आ रही है इसलिए संसद इसे संरक्षण दे रहा है। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा था कि सती प्रथा भी सदियों से चली आ रही थी लेकिन उसे भी खत्म किया गया, जरूरी नहीं, जो प्रथा सदियों से चली आ रही हो वो सही हो। 

Todays Beets: