Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अयोध्या विवाद पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, कहा-जमीन हमारी है और हम राम मंदिर को दान देना चाहते हैं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अयोध्या विवाद पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, कहा-जमीन हमारी है और हम राम मंदिर को दान देना चाहते हैं

नई दिल्ली। राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। शुक्रवार को इस मामले में सुनवाई के दौरान शिया वक्फ बोर्ड ने कहा कि मुसलमानों के हिस्से की जमीन को वह राम मंदिर को सौंपना चाहता है। शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से पेश हुए वकील ने कहा कि बाबरी मस्जिद का निर्माण मीर बाकी ने कराया था जो कि शिया मुसलमान था। ऐसे में सुन्नी पक्षकारों का इस पर कोई हक नहीं बनता है। बोर्ड ने कहा कि इलाहबाद हाई कोर्ट द्वारा मुसलमानों की दी गई एक तिहाई जमीन को राम मंदिर बनाने के लिए दान किया जाएगा। हम इस मामले को शांति के साथ सुलझाना चाहते हैं। वहीं सुन्नी पक्ष की ओर से पेश हुए वकील राजीव धवन ने आगे कहा, जैसे तालिबान ने बामियान को नष्ट कर दिया था। ठीक उसी तरह हिंदू तालिबान ने बाबरी मस्जिद को नष्ट कर दिया.।

गौरतलब कि इस मामले पहले हुई सुनवाई में उत्तरप्रदेश सरकार ने मुस्लिम पक्षकार इस मामले को टालने की कोशिश कर रही है। उत्तरप्रदेश सरकार ने कहा कि सालों से लंबित इस मामले में मुस्लिम पक्षकार 1994 में दिए गए उस फैसले पर टिपण्णी करने की गुहार लगा रहे हैं जिसमें यह कहा गया है कि मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं है। 

ये भी पढ़ें - जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण पर मलेशिया सरकार में मतभेद, मंत्री बोले-जल्द निपटेगा मामला


यहां बता दें कि यूपी सरकार की ओर से पेश हुए एडिशनल साॅलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सालों से लंबित इस मामले में अभी भी फैसले का इंतजार किया जा रहा है। उन्हांेंने कहा कि कोर्ट ने इस मामले पर 1994 में टिपण्णी की थी  लेकिन सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में न तब कोई याचिका दायर की गई थी और न ही अब दायर की गई है। एडिशनल साॅलिसिटर जनरल ने कहा कि इस मामले में कागजी कार्रवाई तो अभी कुछ दिनों पहले पूरी हुई है और सुनवाई शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि अब कहा जा रहा है कि पहले इस टिप्पणी पर पुनर्विचार करने की दरकार है और इस मसले को बड़ी पीठ के पास विचार करने के लिए भेजा जाना चाहिए।  

 

Todays Beets: