Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

दूसरों को न्याय देने वाले जज खुद न्याय के इंतजार में , सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह काट रहे दफ्तरों के चक्कर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दूसरों को न्याय देने वाले जज खुद न्याय के इंतजार में , सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह काट रहे दफ्तरों के चक्कर

नई दिल्ली। बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले मामले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद को सजा का ऐलान कर चर्चा में आए सीबीआई के स्पेशन कोर्ट के जज शिवपाल सिंह इन दिनों खुद ही इंसाफ के लिए चक्कर लगा रहे हैं। बता दें कि शिवपाल सिंह उत्तर प्रदेश के जालौन में अपने पैतृक जमीन के बीच से चक रोड निकाले जाने से बेहद परेशान हैं और यहां न्याय पाने के लिए अधिकारियों के घरों के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन प्रशासनिक उदासीनता की वजह से उन्हें न्याय नहीं मिल पा रहा है। 

पैतृक जमीन में से रोड निकालने का मामला

गौरतलब है कि रांची में सीबीआई के स्पेशल जज शिवपाल सिंह अकेले ही अपनी लड़ाई नहीं लड़ रहे हैं उनके साथ उनका परिवार भी परेशान है। तमाम प्रयासों के वावजूद भी उन्हें न्याय नहीं मिल पा रहा है। यहां बता दें कि जज शिवपाल सिंह मूल रूप से यूपी के जालौन जिले के शेखपुर खुर्द गांव के रहने वाले हैं। उनकी पैतृक जमीन में चक का रोड निकल गया है इसके लिए वे कई अधिकारियों के घरों के चक्कर काट चुके हैं लेकिन कोई उनकी समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा है।


ये भी पढ़ें - डाॅक्टर हरगोविंद खुराना को गूगल ने दी श्रद्धांजलि, जन्म दिन पर डूडल बनाकर किया याद

न्याय का इंतजार

आपको बता दें कि शिवपाल सिंह की पैतृक संपत्ति से जुड़ा यह मामला साल 2006 का है। उनके भाई शिवपाल एवं उनकी जमीन शेखपुर खुर्द में अराजी नंबर 15 और 17 में है जिसके वह संक्रमणीय भूमिधर है। उनकी जमीन पर पूर्व प्रधान ने अपने कार्यकाल के दौरान बिना किसी अधिकार के चकरोड मार्ग बनवा दिया जबकि सरकारी कागजों में चकरोड मार्ग गाटा संख्या 13 है। इस मामले में उनके भाई सुरेन्द्रपाल सिंह ने कई अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। मामला तूल पकड़ने के बाद जालौन उप जिलाधिकारी भैरपाल सिंह ने कहा कि मामला अभी उनके संज्ञान में आया है। इसकी जांच कराकर उचित कारवाई की जाएगी। 

Todays Beets: