Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, एनआईए की विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, एनआईए की विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला

नई दिल्ली। हैदराबाद में 18 मई 2007 में हुए मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में सोमवार को एनआईए की विशेष कोर्ट ने सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया है। बता दें कि साल 2007 में हुए इस धमाके में 9 लोगों की मौत हो गई थी और 53 से ज्यादा घायल हो गए थे। बताया जा रहा है कि एनआईए ने इस मामले में कोर्ट में कोई सबूत पेश नहीं कर पाई इस वजह से मुख्य आरोपी असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया गया।  गौरतलब है कि करीब 11 साल पहले हुए इस धमाके में 8 लोगों को आरोपी बनाया गया था। वहीं विपक्ष ने भी भाजपा पर भगवा आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था। हैदराबाद के मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में स्वामी असीमानंद को मुख्य आरोपी बनाया गया था। उसे 2010 में गिरफ्तार किया था। उनके साथ भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भरत भाई जमानत पर बाहर हैं और 3 लोग जेल में बंद हैं। 

ये भी पढ़ें - वायुसेना स्टेशन की दीवार फांदकर घुसा संदिग्ध, सैनिकों ने दबोचा, खूफिया एजेंसियां सतर्क


 

गौरतलब है कि 18 मई 2007 को दोपहर 1 के आसपास मस्जिद में धामाका हुआ था जिसमें 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी और 4 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे, बाद में इनकी भी मौत हो गई थी। इस मामले को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया था लेकिन फिर यह मामला एनआईए के पास चला गया। 

Todays Beets: