Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, एनआईए की विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, एनआईए की विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला

नई दिल्ली। हैदराबाद में 18 मई 2007 में हुए मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में सोमवार को एनआईए की विशेष कोर्ट ने सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया है। बता दें कि साल 2007 में हुए इस धमाके में 9 लोगों की मौत हो गई थी और 53 से ज्यादा घायल हो गए थे। बताया जा रहा है कि एनआईए ने इस मामले में कोर्ट में कोई सबूत पेश नहीं कर पाई इस वजह से मुख्य आरोपी असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया गया।  गौरतलब है कि करीब 11 साल पहले हुए इस धमाके में 8 लोगों को आरोपी बनाया गया था। वहीं विपक्ष ने भी भाजपा पर भगवा आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था। हैदराबाद के मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में स्वामी असीमानंद को मुख्य आरोपी बनाया गया था। उसे 2010 में गिरफ्तार किया था। उनके साथ भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भरत भाई जमानत पर बाहर हैं और 3 लोग जेल में बंद हैं। 

ये भी पढ़ें - वायुसेना स्टेशन की दीवार फांदकर घुसा संदिग्ध, सैनिकों ने दबोचा, खूफिया एजेंसियां सतर्क


 

गौरतलब है कि 18 मई 2007 को दोपहर 1 के आसपास मस्जिद में धामाका हुआ था जिसमें 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी और 4 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे, बाद में इनकी भी मौत हो गई थी। इस मामले को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया था लेकिन फिर यह मामला एनआईए के पास चला गया। 

Todays Beets: