Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

सीबीआई विवाद में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब 29 नवंबर को होगी सुनवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीआई विवाद में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब 29 नवंबर को होगी सुनवाई

नई दिल्ली। सीबीआई अधिकारियों के वर्चस्व की लड़ाई मामले की सुनवाई मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने टाल दी। अब इस मामले की अगली सुनवाई 29 नवंबर को होगी। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सीलबंद रिपोर्ट के बाहर आने पर अपनी नाराजगी जताते हुए सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के वकील फाली एस नरीमन को एक दस्तावेज पढ़ने को कहा। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि यह लीकेज कैसे हुई? इसके बाद आलोक वर्मा के वकील ने कहा उन्हें खुद भी मालूम नहीं है कि दस्तावेज की खबरें लीक कैसे हुई। 

गौरतलब है कि सीवीसी की जांच रिपोर्ट के बाद सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने भ्रष्टाचार के आरोपों पर कल अपना जवाब दाखिल कर दिया है। बता दें कि आलोक वर्मा ने कोर्ट से जवाब देने के लिए ज्यादा समय की मांग की थी लेकिन कोर्ट ने उन्हें 3 घंटे के अंदर जवाब देने को कहा था। इसके बाद आज यानी की मंगलवार को इस मामले पर सुनवाई होने वाली थी। मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई ने साफ शब्दों में आलोक वर्मा के वकील फाली एस नरीमन से पूछा कि जब जवाब सीलबंद लिफाफे में मांगी गई थी तो आखिर रिपोर्ट लीक कैसे हुई?


ये भी पढ़ें - छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण का मतदान जारी, केंद्रों पर भारी तादाद में पहुंचे उत्साही युवा 

यहां बता दें कि फाली एस नरीमन ने अपने जवाब में कहा कि उन्हें भी इस बात का ज्ञान नहीं है यह मामला लीक कैसे हुई? यह सुनते ही चीफ जस्टिस आॅफ इंडिया ने मामले की सुनवाई को 29 नवंबर तक टाल दिया है। 

Todays Beets: