Saturday, April 21, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

पूर्व सांसदों की पेंशन नहीं होगी बंद, सुप्रीम कोर्ट ने ‘लोक प्रहरी’ की याचिका की खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पूर्व सांसदों की पेंशन नहीं होगी बंद, सुप्रीम कोर्ट ने ‘लोक प्रहरी’ की याचिका की खारिज

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ‘लोक प्रहरी’ नाम के एनजीओ द्वारा पूर्व सांसदों को आजीवन दी जाने वाली पेंशन और भत्तों को बंद करने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि ऐसे मामलों में कोर्ट फैसला नहीं दे सकता है। एक सांसद बनने के लिए लोग पूरा जीवन लगा देते हैं। ऐसे में हारने के बाद भी उन्हें लोगों से मिलने और साथ क्षेत्र के दौरे करने पड़ते हैं जिसके लिए पैसों की जरूरत होती है। इस मामले में कोर्ट ने 7 मार्च को फैसला सुरक्षित रख लिया था। केंद्र की तरफ से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पूर्व सांसदों को आजीवन पेंशन और भत्ते दिये जाने का समर्थन किया। 

गौरतलब है कि केन्द्र सरकार की ओर से अटाॅर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि पूर्व सांसदों को भी देश-विदेश की यात्रा करनी पड़ती है। यहां बता दें कि लोक प्रहरी एनजीओ के द्वारा यह कहा गया कि करीब 82 फीसदी पूर्व सांसद करोड़पति हैं ऐसे में उनकी पेंशन बंद कर देनी चाहिए।

ये भी पढ़ें - मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, एनआईए की विशेष कोर्ट ने सुनाया फैसला


यहां बता दें कि सर्वोच्च अदालत ने कहा कि सांसदों को कुछ विशेषधिकार दिए जाते हैं। उनकी ‘पेंशन’ को संसद मुआवजा का नाम दे सकता है। कोर्ट ने यह भी कहा कि सांसदों को हारने या जीतने के बाद भी अपने क्षेत्र में जाने और लोगों से मिलने की जरूरत होती है ऐसे में पेंशन जीवन को सम्मानजनक तरीके से आगे बढ़ाने के लिए भत्ते का रूप हो सकती है।  हालांकि पीठ ने अटॉर्नी जनरल को यह सूचना देने के लिए कहा है कि क्या पेंशन और भत्तों को सांसदों को देने के लिए कोई तंत्र बनाया जा रहा है क्योंकि पिछले 12 सालों से यह मुद्दा लंबित है।

 

Todays Beets: