Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

भारत में ही रहेंगे या देश से बाहर किए जाएंगे रोहिंग्या मुसलमान, सुप्रीम कोर्ट आज करेगी फैसला

अंग्वाल संवाददाता
भारत में ही रहेंगे या देश से बाहर किए जाएंगे रोहिंग्या मुसलमान, सुप्रीम कोर्ट आज करेगी फैसला

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को रोहिंग्या मुललमानों के मुद्दे पर सुनवाई करेगी। कोर्ट उस याचिका पर सुनवाई करेगी जिसमें जम्मू-कश्मीर में मौजूद रोहिंग्या मुसलमानों ने केंद्र सरकार के उस फैसले को चुनौती दी थी, जिसमें मोदी सरकार की ओर से कहा गया था कि देश से रोहिंग्या मुसलमनों को हर हाल में बाहर किया जाएगा। ये देश की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश जस्टिस दीपक मिश्रा सहित तीन जजों की बेंच इस याचिका पर सुनवाई करेगी। इस बेंच में जस्टिस जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ भी शामिल हैं। शीर्ष अदालत का आज आने वाला फैसला इसलिए भी अहम हो गया है क्योंकि सरकार जहां रोहिंग्या मुसलमानों को देश विरोधी करार दे रही है, वहीं कोर्ट का कहना है कि वह सुनवाई में मानवीय पहलुओं का भी ध्यान रखेगी।

ये भी पढ़ें- पाकिस्तानी सेना ने कृष्णा घाटी के रिहायशी इलाकों में शुरू की भारी हथियारों से गोलाबारी, दो जवान हुए थे शहीद

बता दें कि म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों के भारत में अवैध तरीके से रहने पर केंद्र सरकार ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि इनमें से कई देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त हैं और कई के पाकिस्तान के आतंकी संगठनों से संबंध हैं। ये रोहिंग्या मुसलमान भारत की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है। ये लोग शरणार्थी नहीं बल्कि घुसपैठिए हैं, जिन्हें देश से हर हाल में बाहर किया जाएगा। केंद्र की ओर से रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर ऐसा ही एक हलफनामा सुप्रीम कोर्ट में दिया गया है। इसके विरोध में रोहिंग्या मुसलमानों ने शीर्ष अदालत में एक याचिका दायर करते हुए केंद्र सरकार के इस फैसले को चुनौती दी थी। हालांकि इससे पहले केंद्र सरकार की ओर सुप्रीम कोर्ट में एक ओर हलफनामा दाखिल कर कहा गया है कि यह मामला कार्यपालिका का है और सुप्रीम कोर्ट इसमें हस्तक्षेप न करे।

 


ये भी पढ़ें- हनीप्रीत की दूसरी रिमांड आज खत्म पर पुलिस के हाथ अभी भी खाली, कहीं आरुषि हत्याकांड जैसा न हो जाए मामला!

बावजूद इसके सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा है कि वह इस मामले में विभिन्न पहलुओं पर सुनवाई करेगी। इतना ही नहीं कोर्ट ने दोनों पक्षों को निर्देश दिए हैं कि वह अपनी अर्जी में तमाम दस्तावेजों को लगाएं और साथ ही अंतरराष्ट्रीय संधियां भी इसमें समग्र तरीके से पेश करें। साथ ही कोर्ट साफ कर चुकी है कि वह कानून के आलोक में इस मामले की मानवीय पहलू और मानवता के आधार पर सुनवाई करेगा। 

बता दें कि देशभर में इस समय 40 हजार से अधिक रोहिंग्या शरणार्थी मौजूद हैं, जो म्यांमार में हिंसा भड़कने के बाद अवैध घुसपैठ कर रहे हैं, जिन्हें भारत सरकार ने देश की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बताया है। म्यांमार से करीब 9 लाख रोहिंग्या मुसलमान दूसरे देशों में जा चुके हैं। 

ये भी पढ़ें- पुलवामा में आतंकियों का ग्रेनेड हमला, ब्यूटी पार्लर के करीब हमले में एक लड़की घायल

Todays Beets: