Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

जम्मू कश्मीर के 3 और युवा बने आतंकी, घर वालों ने की वापस लौटने की अपील 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू कश्मीर के 3 और युवा बने आतंकी, घर वालों ने की वापस लौटने की अपील 

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के युवा एक बार फिर से आतंक के रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं। खबरों के अनुसार कश्मीर के 3 और युवा आतंकी संगठन में शामिल हो गए हैं। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार तीनांे ही युवा तहरीक-उल-मुजाहिदीन में शामिल हुए हैं। उनके घरवालों ने इन युवाओं से बंदूक का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल होने की अपील की है। गौर करने वाली बात है कि राज्य में अभी तक करीब 150 से ज्यादा नौजवान आतंकी संगठनों में शामिल हो चुके हैं। 

गौरतलब है कि जिन तीनों युवाओं ने आतंकी रास्ता चुना है वे त्राल, सोपोर और अवंतीपोरा के रहने वाले हैं। इससे पहले भी कई युवा आतंक का रास्ता अपनाया था जिन्हें बाद में सुरक्षाबलों की गोलियों का शिकार होना पड़ा है। अब इन तीनों युवाओं के घरवालों ने उनसे इस रास्ते को छोड़कर मुख्यधारा में शामिल होने की अपील की है।  


ये भी पढ़ें - गुवाहाटी में बाजार में धमाका , 5 लोग गंभीर रूप से घायल

यहां बता दें कि पिछले दिनों  अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में रिसर्च स्काॅलर रहे मन्नान वानी ने भी आतंक का रास्ता चुना था जिसे बाद में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में मार गिराया। उसकी मौत पर पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने उसके पक्ष में बयान दिया जिसके बाद राजनीति तेज हो गई थी। फिलहाल सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीरों के मुताबिक, नसीर एवं फैजान 3 अक्टूबर, शौकत 2 अक्टूबर को आतंकी संगठन में सक्रिय हुए हैं। तहरीक उल मुजाहिदीन ने शौकत को दक्षिण कश्मीर में डिवीजनल कमांडर नियुक्त करते हुए उसे खालिद दाऊद सलफी कोड नाम दिया है। वह कश्मीर विश्वविद्यालय से बी फार्मेसी की डिग्री कर चुका है। नसीर तेली को तहरीक उल ने डॉक्टर इसाक खान का कोड नाम देते हुए बारामुला का जिला कमांडर बनाया है। 11वीं पास फैजान का कोड नाम उस्मान सलफी है।

Todays Beets: