Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

वाॅलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के विरोध में उतरे व्यापारी, 28 सितंबर को बुलाया भारत बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वाॅलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के विरोध में उतरे व्यापारी, 28 सितंबर को बुलाया भारत बंद

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई को लेकर राजनीतिक पार्टियों के द्वारा भारत बंद के बाद अब देश के रिटेल व्यापार को बचाने के लिए व्यापारियों ने केंद्र सरकार का विरोध करने के लिए 28 सितंबर को भारत बंद बुलाया है। व्यापारियों ने कहा कि बंद को सफल बनाने के लिए एक सप्ताह का जनजागरण अभियान चलेगा। यहां बता दें कि गुरुवार को काॅन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) एवं उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष संजय गुप्ता ने यह ऐलान किया है। 

गौरतलब है कि व्यापारियों के द्वारा बुलाए जा रहे बंद को ‘‘वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील से व्यापार बचाओ, व्यापारी आओ’’ नारा दिया गया है। व्यापारियों की मांग है कि केंद्र सरकार ‘‘वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील’’ को तत्काल निरस्त करे और सिंगल ब्रांड रिटेल में 100 फीसदी निवेश की अनुमति को वापस लेने के साथ ही खुदरा व्यापार एवं ई-कॉमर्स में विदेशी निवेश की किसी भी तरह की अनुमति नहीं दी जाए। 


ये भी पढ़ें - राहुल गांधी का रक्षा मंत्री पर बड़ा हमला, कहा- ‘राफेल मिनिस्टर’ इस्तीफा दें 

यहां बता दें कि व्यापारियों की मांग है कि आयकर की सीमा कम से कम 5 लाख रुपये करके धारा-80 सी के तहत छूट की सीमा को 1.5 लाख से बढ़ाकर 2.50 लाख किया जाए। व्यापारियों का कहना है कि इसमें अन्य संगठनों से भी साथ देने की अपील की जाए। 

Todays Beets: