Sunday, October 21, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

वाॅलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के विरोध में उतरे व्यापारी, 28 सितंबर को बुलाया भारत बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वाॅलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के विरोध में उतरे व्यापारी, 28 सितंबर को बुलाया भारत बंद

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई को लेकर राजनीतिक पार्टियों के द्वारा भारत बंद के बाद अब देश के रिटेल व्यापार को बचाने के लिए व्यापारियों ने केंद्र सरकार का विरोध करने के लिए 28 सितंबर को भारत बंद बुलाया है। व्यापारियों ने कहा कि बंद को सफल बनाने के लिए एक सप्ताह का जनजागरण अभियान चलेगा। यहां बता दें कि गुरुवार को काॅन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) एवं उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष संजय गुप्ता ने यह ऐलान किया है। 

गौरतलब है कि व्यापारियों के द्वारा बुलाए जा रहे बंद को ‘‘वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील से व्यापार बचाओ, व्यापारी आओ’’ नारा दिया गया है। व्यापारियों की मांग है कि केंद्र सरकार ‘‘वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील’’ को तत्काल निरस्त करे और सिंगल ब्रांड रिटेल में 100 फीसदी निवेश की अनुमति को वापस लेने के साथ ही खुदरा व्यापार एवं ई-कॉमर्स में विदेशी निवेश की किसी भी तरह की अनुमति नहीं दी जाए। 


ये भी पढ़ें - राहुल गांधी का रक्षा मंत्री पर बड़ा हमला, कहा- ‘राफेल मिनिस्टर’ इस्तीफा दें 

यहां बता दें कि व्यापारियों की मांग है कि आयकर की सीमा कम से कम 5 लाख रुपये करके धारा-80 सी के तहत छूट की सीमा को 1.5 लाख से बढ़ाकर 2.50 लाख किया जाए। व्यापारियों का कहना है कि इसमें अन्य संगठनों से भी साथ देने की अपील की जाए। 

Todays Beets: