Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

 नई दिल्ली। दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 63 में एक निर्माणाधीन इमारत गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि 3 लोग घायल हो गए हैं। निर्माणाधीन इमारत के गिरने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चला है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। कुछ दिनों पहले नोएडा के शाहबेरी गांव में निर्माणाधीन इमारत के गिरने से 9 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बावजूद बिल्डरों ने सबक नहीं सिखा। स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा आंख बंद किए जाने से भी बिल्डरों द्वारा लापरवाही की जा रही है। नतीजतन ऐसे हादसे हो रहे हैं। 

अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर जारी, 2 जवान घायल

ऐसे हादसों से साफ है कि स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारी बिल्डरों को मानकों के अनुरूप कार्य करने के लिए बाध्य नहीं कर पा रहे हैं। बिल्डर अपनी मनमानी कर रहे हैं। जमीन खरीद से लेकर इमारत को तैयार करने तक सभी जगह गड़बड़ी की जाती है। इसके बावजूद प्रशासन चुप रहता है। शाहबेरी गांव में जिस इमारत पर निर्माणाधीन इमारत गिरी थी, उसमें परिवार रहते थे। यहां रहने वाले परिवारों ने बैंक से लोन लेकर फ्लैट खरीदा था।


  बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

यब बात सामने आ रही है कि जिस जमीन पर दोनों इमारत हैं, वो शाहबेरी गांव की जमीन है। नोएडा प्राधिकरण की नहीं है। गांव की जमीन के पेपर पूरे नहीं होते हैं, अर्थात् फ्री होल्ड नहीं होतेे। इसके बावजूद बैंक फ्लैट पर लोन दे रहे थे। इससे सिस्टम में मिलीभगत के संकेत मिलते हैं।  

Todays Beets: