Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

 नई दिल्ली। दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 63 में एक निर्माणाधीन इमारत गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि 3 लोग घायल हो गए हैं। निर्माणाधीन इमारत के गिरने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चला है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। कुछ दिनों पहले नोएडा के शाहबेरी गांव में निर्माणाधीन इमारत के गिरने से 9 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बावजूद बिल्डरों ने सबक नहीं सिखा। स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा आंख बंद किए जाने से भी बिल्डरों द्वारा लापरवाही की जा रही है। नतीजतन ऐसे हादसे हो रहे हैं। 

अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर जारी, 2 जवान घायल

ऐसे हादसों से साफ है कि स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारी बिल्डरों को मानकों के अनुरूप कार्य करने के लिए बाध्य नहीं कर पा रहे हैं। बिल्डर अपनी मनमानी कर रहे हैं। जमीन खरीद से लेकर इमारत को तैयार करने तक सभी जगह गड़बड़ी की जाती है। इसके बावजूद प्रशासन चुप रहता है। शाहबेरी गांव में जिस इमारत पर निर्माणाधीन इमारत गिरी थी, उसमें परिवार रहते थे। यहां रहने वाले परिवारों ने बैंक से लोन लेकर फ्लैट खरीदा था।


  बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

यब बात सामने आ रही है कि जिस जमीन पर दोनों इमारत हैं, वो शाहबेरी गांव की जमीन है। नोएडा प्राधिकरण की नहीं है। गांव की जमीन के पेपर पूरे नहीं होते हैं, अर्थात् फ्री होल्ड नहीं होतेे। इसके बावजूद बैंक फ्लैट पर लोन दे रहे थे। इससे सिस्टम में मिलीभगत के संकेत मिलते हैं।  

Todays Beets: