Monday, August 20, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नोएडा में निर्माणाधीन इमारत गिरी, 1 की मौत 3 घायल

 नई दिल्ली। दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 63 में एक निर्माणाधीन इमारत गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि 3 लोग घायल हो गए हैं। निर्माणाधीन इमारत के गिरने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चला है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। कुछ दिनों पहले नोएडा के शाहबेरी गांव में निर्माणाधीन इमारत के गिरने से 9 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बावजूद बिल्डरों ने सबक नहीं सिखा। स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा आंख बंद किए जाने से भी बिल्डरों द्वारा लापरवाही की जा रही है। नतीजतन ऐसे हादसे हो रहे हैं। 

अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर जारी, 2 जवान घायल

ऐसे हादसों से साफ है कि स्थानीय प्राधिकरण के अधिकारी बिल्डरों को मानकों के अनुरूप कार्य करने के लिए बाध्य नहीं कर पा रहे हैं। बिल्डर अपनी मनमानी कर रहे हैं। जमीन खरीद से लेकर इमारत को तैयार करने तक सभी जगह गड़बड़ी की जाती है। इसके बावजूद प्रशासन चुप रहता है। शाहबेरी गांव में जिस इमारत पर निर्माणाधीन इमारत गिरी थी, उसमें परिवार रहते थे। यहां रहने वाले परिवारों ने बैंक से लोन लेकर फ्लैट खरीदा था।


  बरेली के इमाम का विवादित फतवा, निदा खान का सिर कलम करने वाले को इनाम का ऐलान

यब बात सामने आ रही है कि जिस जमीन पर दोनों इमारत हैं, वो शाहबेरी गांव की जमीन है। नोएडा प्राधिकरण की नहीं है। गांव की जमीन के पेपर पूरे नहीं होते हैं, अर्थात् फ्री होल्ड नहीं होतेे। इसके बावजूद बैंक फ्लैट पर लोन दे रहे थे। इससे सिस्टम में मिलीभगत के संकेत मिलते हैं।  

Todays Beets: