Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

नई दिल्ली। हिंदी दिवस के मौके पर अंग्र्रेजी भाषा को लेकर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी भाषा एक बीमारी है जिसे अंग्रेज छोड़ गए हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि हिंदी भाषा ‘‘सामाजिक-राजनीतिक और भाषाई एकता’’ का प्रतीक था लेकिन अंग्रेजों के बाद अब भी इस भाषा को काफी तवज्जो दी जा रही है। इस बीमारी से निकलने के लिए हमें खुद ही कोशिश करनी होगी। उन्होंने कहा कि भाषा आपकी भावनाओं को भी दिखाता है। 

गौरतलब है कि उपराष्ट्रपति ने कहा कि संविधान सभा (जिसने संविधान तैयार किया) ने 14 सितंबर, 1949 को हिंदी को आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में स्वीकार किया था। दिलचस्प बात यह है कि असेंबली ने उसी बैठक में अंग्रेजी को भी आधिकारिक भाषा के रूप में भी अपनाया था। 


ये भी पढ़ें - मनोहर पर्रिकर की तबीयत एक बार फिर बिगड़ी, एयरलिफ्ट कर लाए जाएंगे दिल्ली

यहां आपको बता दें कि भाषा और भावना एक साथ चलते हैं। ऐसे में सभी नेताओं को अपनी मातृभाषा को बढ़ावा दें। उन्होंने कहा कि अगर आप लोगों तक पहुंचना चाहते हैं तो पहले उन्हें समझिए। उसके बाद आप अपनी भावनाओं को सही ढंग से उनके सामने व्यक्त कर सकते हैं। इसमें हिंदी भाषा काफी मददगार साबित हुई हैं। स्वतंत्रता सेनानियों का उदाहरण देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि उनकी मुख्य भाषा हिंदी ही थी।  यह देश की सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक और भाषाई एकता का प्रतीक था। आज भी ये गुण हिंदी को अन्य सभी भाषाओं के बीच स्वीकार्य बनाते हैं।  

Todays Beets: