Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

नई दिल्ली। हिंदी दिवस के मौके पर अंग्र्रेजी भाषा को लेकर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी भाषा एक बीमारी है जिसे अंग्रेज छोड़ गए हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि हिंदी भाषा ‘‘सामाजिक-राजनीतिक और भाषाई एकता’’ का प्रतीक था लेकिन अंग्रेजों के बाद अब भी इस भाषा को काफी तवज्जो दी जा रही है। इस बीमारी से निकलने के लिए हमें खुद ही कोशिश करनी होगी। उन्होंने कहा कि भाषा आपकी भावनाओं को भी दिखाता है। 

गौरतलब है कि उपराष्ट्रपति ने कहा कि संविधान सभा (जिसने संविधान तैयार किया) ने 14 सितंबर, 1949 को हिंदी को आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में स्वीकार किया था। दिलचस्प बात यह है कि असेंबली ने उसी बैठक में अंग्रेजी को भी आधिकारिक भाषा के रूप में भी अपनाया था। 


ये भी पढ़ें - मनोहर पर्रिकर की तबीयत एक बार फिर बिगड़ी, एयरलिफ्ट कर लाए जाएंगे दिल्ली

यहां आपको बता दें कि भाषा और भावना एक साथ चलते हैं। ऐसे में सभी नेताओं को अपनी मातृभाषा को बढ़ावा दें। उन्होंने कहा कि अगर आप लोगों तक पहुंचना चाहते हैं तो पहले उन्हें समझिए। उसके बाद आप अपनी भावनाओं को सही ढंग से उनके सामने व्यक्त कर सकते हैं। इसमें हिंदी भाषा काफी मददगार साबित हुई हैं। स्वतंत्रता सेनानियों का उदाहरण देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि उनकी मुख्य भाषा हिंदी ही थी।  यह देश की सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक और भाषाई एकता का प्रतीक था। आज भी ये गुण हिंदी को अन्य सभी भाषाओं के बीच स्वीकार्य बनाते हैं।  

Todays Beets: