Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अंग्रेजी भाषा अंग्रेजों के द्वारा छोड़ी गई बीमारी है इससे खुद ही निकलना होगा- वेंकैया नायडू

नई दिल्ली। हिंदी दिवस के मौके पर अंग्र्रेजी भाषा को लेकर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी भाषा एक बीमारी है जिसे अंग्रेज छोड़ गए हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि हिंदी भाषा ‘‘सामाजिक-राजनीतिक और भाषाई एकता’’ का प्रतीक था लेकिन अंग्रेजों के बाद अब भी इस भाषा को काफी तवज्जो दी जा रही है। इस बीमारी से निकलने के लिए हमें खुद ही कोशिश करनी होगी। उन्होंने कहा कि भाषा आपकी भावनाओं को भी दिखाता है। 

गौरतलब है कि उपराष्ट्रपति ने कहा कि संविधान सभा (जिसने संविधान तैयार किया) ने 14 सितंबर, 1949 को हिंदी को आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में स्वीकार किया था। दिलचस्प बात यह है कि असेंबली ने उसी बैठक में अंग्रेजी को भी आधिकारिक भाषा के रूप में भी अपनाया था। 


ये भी पढ़ें - मनोहर पर्रिकर की तबीयत एक बार फिर बिगड़ी, एयरलिफ्ट कर लाए जाएंगे दिल्ली

यहां आपको बता दें कि भाषा और भावना एक साथ चलते हैं। ऐसे में सभी नेताओं को अपनी मातृभाषा को बढ़ावा दें। उन्होंने कहा कि अगर आप लोगों तक पहुंचना चाहते हैं तो पहले उन्हें समझिए। उसके बाद आप अपनी भावनाओं को सही ढंग से उनके सामने व्यक्त कर सकते हैं। इसमें हिंदी भाषा काफी मददगार साबित हुई हैं। स्वतंत्रता सेनानियों का उदाहरण देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि उनकी मुख्य भाषा हिंदी ही थी।  यह देश की सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक और भाषाई एकता का प्रतीक था। आज भी ये गुण हिंदी को अन्य सभी भाषाओं के बीच स्वीकार्य बनाते हैं।  

Todays Beets: