Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

राज्यसभा सदस्यता रद्द होने से नाराज शरद यादव समर्थकों का पटना में विरोध-प्रदर्शन, राज भवन तक निकाला मार्च

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्यसभा सदस्यता रद्द होने से नाराज शरद यादव समर्थकों का पटना में विरोध-प्रदर्शन, राज भवन तक निकाला मार्च

पटना । शरद यादव को राज्यसभा की सदस्या के लिए अयोग्य ठहराए जाने के बाद से हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले दिनों दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता जाने के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया। इससे गुस्सा शरद यादव समर्थकों ने मंगलवार को पटना में विरोध -प्रदर्शन करते हुए राज भवन तक मार्च निकाला। इस दौरान शरद यादव के समर्थक हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर सड़कों पर उतरे। इनमें से कुछ पर लिखा था कि लोकतंत्र के रक्षक अब सड़क पर..., इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने सीएम नीतीश कुमार के विरोध में नारेबाजी की। पूरे माहौल को देखते हुए  स्थानीय प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था को चौकस कर दिया था। 

ये भी पढ़ें- हिंदू जागरण मंच की स्कूलों को हिदायत, ईसाइयों का त्योहार क्रिसमस न मनाएं, धर्मांतरण की साजिश

बता दें कि जेडीयू की अपील पर राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने 4 दिसंबर को शरद यादव के साथ-साथ अली अनवर को भी राज्यसभा की सदस्यता के लिए अयोग्य ठहराया था। शरद यादव की राज्यसभा सदस्या रद्द कर दी गई थी। सदस्यता के लिए अयोग्य ठहराए जाने के उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू के फैसले को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। कोर्ट ने इस मामले में दखल देने से तो इंकार कर दिया था लेकिन आदेश दिया कि यादव को भत्ते और सरकारी बंगला का लाभ मिलता रहेगा। 

ये भी पढ़ें- विकास को पागल कहने वाले गुजरात के विकास मॉडल को क्या समझेंगे, हताशा में कुछ भी बोल रहे हैं - भाजपा


विदित हो कि शरद यादव बिहार के सीएम और जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार के भाजपा से हाथ मिलाने के बाद से नाराज हैं। शरद ने नीतीश के इस फैसले का खुलकर विरोध किया और बाद में दावा कर दिया कि उनकी अगुआई वाला जेडीयू धड़ा ही असली जेडीयू है। इतना ही नहीं उन्होंने चुनाव आयोग के सामने जेडीयू के चुनाव चिह्न तीर पर अपना दावा भी कर डाला, हालांकि चुनाव आयोग ने शरद गुट के दावे को खारिज कर दिया। 

ये भी पढ़ें- पौड़ी गढ़वाल सीट से चुनाव लड़ सकते हैं NSA अजित डोभाल के बेटे शौर्य, पिछले दिनों भाजपा की सदस्यता ली

इस सब से गुस्साए शरद यादव के समर्थकों ने मंगलवार को पटना में विरोध-प्रदर्शन करते हुए राज भवन तक एक मार्च निकाला। इस दौरान लोगों ने सीएम नीतीश कुमार के विरोध करते हुए श्लोगन लिखे पोस्टर पकड़े हुए थे। 

Todays Beets: