Sunday, July 21, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

नई दिल्ली। भारत को 1978 के बैंकाॅक एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह भट्टल का मंगलवार को देहांत हो गया। 64 साल के हक्कम सिंह 1981 में हुए एक हादसे के बाद खेल की दुनिया से दूरी बना ली थी। वे काफी समय से किडनी और लीवर की समस्या से परेशान थे। संगरूर के अस्पताल में भर्ती इस खिलाड़ी के इलाज के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 5 लाख रुपये की राशि देने को मंजूरी दी थी। बता दें कि 2008 में हक्कम सिंह को मेजर ध्यानचंद अवार्ड से भी नवाजा गया था। 

गौरतलब है कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी स्वर्ण पदक विजेता खिलाड़ी के इलाज के लिए 10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। पिछले महीने की 29 तारीख से ही हक्कम सिंह संगरूर के एक अस्पताल में भर्ती थे। 


ये भी पढ़ें - विश्वस्तरीय मुकाबलों में मेडल चाहिए तो सुविधाएं भी वैसी ही होनी चाहिए- विनेश फोगाट 

यहां बता दें कि हाकम सिंह ने 1978 में बैंकाॅक में हुए एशियन गेम्स में 20 किलोमीटर पुरुष वाॅक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था। इसके बाद 1979 में एशियन ट्रैक एंड फील्ड मीट में भी स्वर्ण पदक जीता था। गौर करने वाली बात है कि 2008 में उन्हें ध्यानचंद अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। 1981 में हुए एक हादसे के बाद हाकम सिंह ने खेल से दूरी बना ली थी।

Todays Beets: