Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

देश के कई इलाकों में अंधेरा छाने का डर, 122 बिजली घरों में कोयले की भारी कमी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देश के कई इलाकों में अंधेरा छाने का डर, 122 बिजली घरों में कोयले की भारी कमी 

नई दिल्ली। देश के ज्यादातर इलाकों में अंधेरा छा सकता है। जी हां, देश के 122 बिजली घरों में कोयले की भारी किल्लत हो गई है। मानसून सीजन के दौरान लगातार बारिश होने की वजह से ऐसा माना जा रहा था कि बाद मंे स्थिति सुधर जाएगी लेकिन पावर स्टेशनों में अभी तक कोयले की आपूर्ति नहीं हो रही है। कोयले की आपूर्ति नहीं सुधरने पर त्यौहार में बिजली की बढ़ी मांग पूरा करने में दिक्कत हो सकती है। कोयला सचिव की ओर से कोल इंडिया को पत्र लिखकर स्थिति में सुधार लाने को कहा गया है। 

गौरतलब है कि करीब 10 बिजली घरों के पास अतिरिक्त कोयले का स्टाॅक नहीं है जबकि नियमों के अनुसार बिजली घरांे के पास कम से कम 15 दिनों का स्टाॅक होना चाहिए। बताया जा रहा है कि देश के 46 बिजली घर ऐसे हैं, जिनके पास सिर्फ 1 से 3 दिनों के लिए कोयले का स्टॉक था। 20 पावर प्लांट के पास 6 दिनों तक के लिए कोयले का स्टॉक पाया गया। वहीं 31 पावर प्लांट के पास 7 से 15 दिनों के लिए कोयले का स्टॉक था।

ये भी पढ़ें - टेरर फंडिंग मामले में एनआईए का दिल्ली के कई ठिकानों पर छापा, लाखों रुपये, मोबाइल और दस्तावेज...


यहां बता दें कि कोल इंडिया के अधिकारी ने बताया कि उनके पास कोयला तो है लेकिन रेलवे के पास उसे ढोने के लिए रैक नहीं है। अब बिजली घर या एल्युमीनियम प्लांट को ट्रकों से तो कोयले की आपूर्ति हो नहीं सकती। इस समय जो रैक उपलब्ध हैं, उनसे बिजली घरों को कोयला भेजा जा रहा है। आपको बता दें कि इस समय कोयला और रेलवे, दोनों मंत्रालयों की जिम्मेदारी पीयूष गोयल के पास है।

सरकार ने कोयले की आपूर्ति में बिजली क्षेत्र को प्राथमिकता देने का लिखित आदेश दिया है। सप्लाई की दूसरी वरीयता राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड, नाल्को और सेल जैसे केंद्र सरकार के उपक्रमों को रखा गया है। कोयले की कमी की वजह से एल्युमीनियम उद्योग को खासी दिक्कत हो रही है। एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कोयला सचिव को लिखे एक पत्र में कहा है कि इससे उद्योग के कैप्टिव पावर प्लांट बंद होने के कगार पर आ जाएंगे।

 

Todays Beets: