Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

गोपालकों के आएंगे अच्छे दिन, रेलवे खरीदेगा उनसे गोबर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गोपालकों के आएंगे अच्छे दिन, रेलवे खरीदेगा उनसे गोबर

नई दिल्ली। देश में गोपालकों के अच्छे दिन आने वाले हैं। स्वच्छता अभियान के तहत भारतीय रेलवे में बायो टाॅयलेट लगाए जा रहे हैं और इसमें घोल के रूप में गाय के गोबर का इस्तेमाल किया जा रहा है। यहां बता दें कि डीआरडीई इस घोल को तैयार कर भारतीय रेलवे को देते हैं। बायो टाॅयलेट में इनोकुलूम नाम के घोल का इस्तेमाल किया जाता है जो टाॅयेलट में जाने वाले मल-मूत्र को अलग कर देता है। 

गौरतलब है कि भारत में स्वच्छता अभियान काफी जोर-शोर से चलाया जा रहा है। भारतीय ट्रेनों के शौचालयों में बढ़ती गंदगी को देखते हुए अब उसमें बायोटाॅयलेट बनाए जा रहे हैं। सरकार की योजना है कि दिसंबर 2018 तक सभी ट्रेनों में बायोटाॅयलेट लगा दिए जाएंगे। इस बायो टॉयलेट टैंक में गाय के गोबर के इस्तेमाल से बनाया गया घोल डाला जा रहा है, जिसे रेलवे अभी डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट इस्टेबलिशमेंट (डीआरडीई) ग्वालियर से 19 रुपये प्रति लीटर की दर से खरीद रहा है। इस योजना के लिए रेलवे को 3,350 ट्रक गोबर की जरूरत पड़ेगी जिसकी कीमत 42 करोड़ बताई जा रही है। 

ये भी पढ़ें - बोर्ड की परीक्षाओं में होने वाले फर्जीवाड़े पर लगेगी लगाम, शिक्षकों को जारी होंगे विशेष कोड

इस काम के लिए चाहिए होता है गोबर

बायो टॉयलेट में इनोकुलुम नाम का घोल इस्तेमाल किया जाता है। डीआरडीई इसे तैयार कर रेलवे को देता है। घोल को तैयार करने के लिए उसमें गाय का गोबर मिलाया जाता है। गोबर के कारण घोल में बैक्टीरिया जीवित रहते हैं साथ ही और बैक्टीरिया पैदा होते रहते हैं। 400 लीटर के टैंक में 120 लीटर घोल डाला जाता है। घोल से टैंक में जमा मल-मूत्र अलग हो जाता है। मल कार्बन डाइआक्साइड में तब्दील होकर हवा में उड़ जाता है और पानी को रिसाइकिल कर ट्रेनों की धुलाई की जाती है। 


गोबर के लिए खुलेंगे सेंटर

बताया जा रहा है कि ग्वालियर स्थित डीआरडीई अभी तक 15 अधिकृत वेंडरों से गाय का गोबर लेता है। यह गोबर, वेंडर गोशाला और जिनके पास ज्यादा गाय है, उनसे खरीदा जाता है। चूंकि साल के अंत तक सभी ट्रेनों में बायो टॉयलेट लगेंगे, ऐसे में डीआरडीई को बड़े पैमाने पर गोबर की जरूरत पड़ेगी। इसके चलते गोबर इकट्ठा करने के लिए कई और सेंटर भी खोलने की योजना है। इसके अलावा टैंक में डाले जाने वाले घोल के लिए भी सेंटर खोला जाएगा। 

 

 

Todays Beets: