Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

 टेरर फंडिंग मामले में एनआईए का दिल्ली के कई ठिकानों पर छापा, लाखों रुपये, मोबाइल और दस्तावेज किया जब्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 टेरर फंडिंग मामले में एनआईए का दिल्ली के कई ठिकानों पर छापा, लाखों रुपये, मोबाइल और दस्तावेज किया जब्त

नई दिल्ली। टेरर फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद के संगठन फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) के दिल्लाी स्थित कई ठिकानों पर छापेमारी की है। खबरों के अनुसार एनआईए ने यह कार्रवाई हिलाल अहमद राथर के लाजपत नगर स्थित आवास और ऑफिस परिसरों पर की गई है। बता दें कि वह मूल रूप से श्रीनगर का रहने वाला है। एनआईए ने छापेमारी के दौरान उसके घर से 18 लाख रुपये नकद, 6 मोबाइल फोन, सिम और कई अहम दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने इस संगठन के खिलाफ 2 जुलाई 2018 को आतंकी फंडिंग करने के लेकर कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। इसके बाद हुई जांच में पता चला कि नई दिल्ली के निजामुद्दीन निवासी मोहम्मद सलमान लगातार दुबई स्थित एक पाकिस्तानी नागरिक के संपर्क में था और बाद में उसका संपर्क एफआईएफ के डिप्टी चीफ से हो गया। गौर करने वाली बात है कि फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन लश्कर ए तैयबा का ही मुखौटा है।

ये भी पढ़ें - संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 


यहां बता दें कि हवाला के जरिए इसके पास पैसा आता था जिसका इस्तेमाल देश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने में किया जाता था। आपको बता दें कि 2010 में अमेरिका ने इस संगठन को आतंकी संगठनों की सूची में शामिल किया था। इस मामले में अब तक दिल्ली के मोहम्मद सलमान, मोहम्मद सलीम और श्रीनगर निवासी सज्जाद अहमद वानी को गिरफ्तार किया गया है।

 

Todays Beets: