Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

 टेरर फंडिंग मामले में एनआईए का दिल्ली के कई ठिकानों पर छापा, लाखों रुपये, मोबाइल और दस्तावेज किया जब्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 टेरर फंडिंग मामले में एनआईए का दिल्ली के कई ठिकानों पर छापा, लाखों रुपये, मोबाइल और दस्तावेज किया जब्त

नई दिल्ली। टेरर फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद के संगठन फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) के दिल्लाी स्थित कई ठिकानों पर छापेमारी की है। खबरों के अनुसार एनआईए ने यह कार्रवाई हिलाल अहमद राथर के लाजपत नगर स्थित आवास और ऑफिस परिसरों पर की गई है। बता दें कि वह मूल रूप से श्रीनगर का रहने वाला है। एनआईए ने छापेमारी के दौरान उसके घर से 18 लाख रुपये नकद, 6 मोबाइल फोन, सिम और कई अहम दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने इस संगठन के खिलाफ 2 जुलाई 2018 को आतंकी फंडिंग करने के लेकर कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। इसके बाद हुई जांच में पता चला कि नई दिल्ली के निजामुद्दीन निवासी मोहम्मद सलमान लगातार दुबई स्थित एक पाकिस्तानी नागरिक के संपर्क में था और बाद में उसका संपर्क एफआईएफ के डिप्टी चीफ से हो गया। गौर करने वाली बात है कि फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन लश्कर ए तैयबा का ही मुखौटा है।

ये भी पढ़ें - संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 


यहां बता दें कि हवाला के जरिए इसके पास पैसा आता था जिसका इस्तेमाल देश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने में किया जाता था। आपको बता दें कि 2010 में अमेरिका ने इस संगठन को आतंकी संगठनों की सूची में शामिल किया था। इस मामले में अब तक दिल्ली के मोहम्मद सलमान, मोहम्मद सलीम और श्रीनगर निवासी सज्जाद अहमद वानी को गिरफ्तार किया गया है।

 

Todays Beets: