Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

रामभक्त और ताकतवर होने पर मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे- अनिल विज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रामभक्त और ताकतवर होने पर मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे- अनिल विज

चंडीगढ़। भारतीय जनता पार्टी के बयानवीर नेताओं में से एक हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने अयोध्या में 26 सालों पहले गिराए गए विवादित ढांचे की बरसी पर एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। विज ने अपने बयान में कहा कि बाबर ने बिना किसी कानून की परवाह किए मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनवा दिया था क्योंकि उस समय वह ताकतवर था। उन्होंने कहा कि रामभक्त ताकतवर हुए तो मस्जिद को गिरा दिया और ताकतवार होंगे तो राम मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे। यहां बता दें कि इससे पहले भी कई मुद्दों पर अनिल विज विवादित बयान दे चुके हैं। 

गौरतलब है कि हरियाणा के मंत्री पहले भी कई विवादित बयान दे चुके हैं। फिल्म पद्मावती को लेकर भी अनिल विज ने कहा था कि वे फिल्म को हरियाणा में रिलीज नहीं होने देंगे।  इसके साथ ही उन्होंने ताजमहल को एक खूबसूरत कब्रिस्तान बता चुके हैं। आपको बता दें कि अनिल विज ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तुलना ‘निपाह वायरस’ से की थी। 

ये भी पढ़ें - नवजोत सिद्धू की बोलने की शक्ति खतरे में , डॉक्टर की हिदायत के बाद इलाज के लिए अज्ञात स्थान गए


यहां बता दें कि हरियाणा में मुसलमानों के द्वारा खुली जगह पर नमाज पढ़ने पर भी ऐतराज जताते हुए उन्होंने कहा था कि मुसमानों जमीन पर कब्जा जमाने के मकसद से खुली जगह में नमाज पढ़ रहे हैं। अब उन्होंने मंदिर-मस्जिद विवाद का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में होने के बावजूद ऐसा विवादित बयान दिया है।

 

Todays Beets: