Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

रामभक्त और ताकतवर होने पर मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे- अनिल विज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रामभक्त और ताकतवर होने पर मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे- अनिल विज

चंडीगढ़। भारतीय जनता पार्टी के बयानवीर नेताओं में से एक हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने अयोध्या में 26 सालों पहले गिराए गए विवादित ढांचे की बरसी पर एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। विज ने अपने बयान में कहा कि बाबर ने बिना किसी कानून की परवाह किए मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनवा दिया था क्योंकि उस समय वह ताकतवर था। उन्होंने कहा कि रामभक्त ताकतवर हुए तो मस्जिद को गिरा दिया और ताकतवार होंगे तो राम मंदिर बनाकर हिसाब पूरा कर देंगे। यहां बता दें कि इससे पहले भी कई मुद्दों पर अनिल विज विवादित बयान दे चुके हैं। 

गौरतलब है कि हरियाणा के मंत्री पहले भी कई विवादित बयान दे चुके हैं। फिल्म पद्मावती को लेकर भी अनिल विज ने कहा था कि वे फिल्म को हरियाणा में रिलीज नहीं होने देंगे।  इसके साथ ही उन्होंने ताजमहल को एक खूबसूरत कब्रिस्तान बता चुके हैं। आपको बता दें कि अनिल विज ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तुलना ‘निपाह वायरस’ से की थी। 

ये भी पढ़ें - नवजोत सिद्धू की बोलने की शक्ति खतरे में , डॉक्टर की हिदायत के बाद इलाज के लिए अज्ञात स्थान गए


यहां बता दें कि हरियाणा में मुसलमानों के द्वारा खुली जगह पर नमाज पढ़ने पर भी ऐतराज जताते हुए उन्होंने कहा था कि मुसमानों जमीन पर कब्जा जमाने के मकसद से खुली जगह में नमाज पढ़ रहे हैं। अब उन्होंने मंदिर-मस्जिद विवाद का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में होने के बावजूद ऐसा विवादित बयान दिया है।

 

Todays Beets: