Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

अंग्वाल संवाददाता
मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

आगरा। पिछले दिनों ताजमहल पर दर्ज एक आरटीआई में पूछा गया था कि ताजमहल एक मकबरा है या फिर एक मंदिर। इस आरटीआई के बाद कोर्ट ने भारत सरकार और केंद्रीय पुरात्तव विभाग से जवाब मांगा था । इस जवाब को दाखिल करते हुए पुरात्तव विभाग ने ताजमहल को एक मकबरा बताया है। पुरात्तव विभाग ने ताजमहल के मंदिर होने की बात को सिरे से नकार दिया है। पुरात्तव विभाग ने इस जवाब में ताजमहल के साथ जुड़े मुगल शासक शाहजहां और बेगम मुमताज महल के इतिहास को सही बताया है। आपको बता दें कि केंद्रीय सूचना आयोग ने सवाल खड़ा करते हुए संस्कृति मंत्रालय से इस संदेह को साफ करने के लिए कहा था।  सूचना आयोग ने पूछा था कि यह ऐतिहासिक इमारत शाहजहां द्वारा बनवाया हुआ मकबरा है या फिर शिव मंदिर, जिसे राजपूप राजा मान सिंह ने मुगल बादशाह को उपहार में दिया था। 

यह भी पढ़े- Good news : दिल्ली में ब्लू लाइन मेट्रो स्टेशन पर फ्री हाईस्पीड WiFi सेवा शुरू


आपको बता दें, ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने 1628-1658 में अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। इस मामले पर सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्यलु ने कहा है कि मंत्रालय इस मुद्दे पर विवाद खत्म करे और ताजमहल के मकबरे और मंदिर होने के संदेह को दूर करे। आज मंत्रालय ने अपना जवाब दाखिल किया है। हालांकि, जवाब में यह भी कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ताजमहल से जुड़े किसी भी मामले की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में नहीं हो सकती। जस्टिस अभिषेक सिन्हा मामले की सुनवाई 11 सिंतबर को करेंगे। 

यह भी पढ़े- तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

Todays Beets: