Saturday, September 23, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

अंग्वाल संवाददाता
मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

आगरा। पिछले दिनों ताजमहल पर दर्ज एक आरटीआई में पूछा गया था कि ताजमहल एक मकबरा है या फिर एक मंदिर। इस आरटीआई के बाद कोर्ट ने भारत सरकार और केंद्रीय पुरात्तव विभाग से जवाब मांगा था । इस जवाब को दाखिल करते हुए पुरात्तव विभाग ने ताजमहल को एक मकबरा बताया है। पुरात्तव विभाग ने ताजमहल के मंदिर होने की बात को सिरे से नकार दिया है। पुरात्तव विभाग ने इस जवाब में ताजमहल के साथ जुड़े मुगल शासक शाहजहां और बेगम मुमताज महल के इतिहास को सही बताया है। आपको बता दें कि केंद्रीय सूचना आयोग ने सवाल खड़ा करते हुए संस्कृति मंत्रालय से इस संदेह को साफ करने के लिए कहा था।  सूचना आयोग ने पूछा था कि यह ऐतिहासिक इमारत शाहजहां द्वारा बनवाया हुआ मकबरा है या फिर शिव मंदिर, जिसे राजपूप राजा मान सिंह ने मुगल बादशाह को उपहार में दिया था। 

यह भी पढ़े- Good news : दिल्ली में ब्लू लाइन मेट्रो स्टेशन पर फ्री हाईस्पीड WiFi सेवा शुरू


आपको बता दें, ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने 1628-1658 में अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। इस मामले पर सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्यलु ने कहा है कि मंत्रालय इस मुद्दे पर विवाद खत्म करे और ताजमहल के मकबरे और मंदिर होने के संदेह को दूर करे। आज मंत्रालय ने अपना जवाब दाखिल किया है। हालांकि, जवाब में यह भी कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ताजमहल से जुड़े किसी भी मामले की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में नहीं हो सकती। जस्टिस अभिषेक सिन्हा मामले की सुनवाई 11 सिंतबर को करेंगे। 

यह भी पढ़े- तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

Todays Beets: