Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

अंग्वाल संवाददाता
मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

आगरा। पिछले दिनों ताजमहल पर दर्ज एक आरटीआई में पूछा गया था कि ताजमहल एक मकबरा है या फिर एक मंदिर। इस आरटीआई के बाद कोर्ट ने भारत सरकार और केंद्रीय पुरात्तव विभाग से जवाब मांगा था । इस जवाब को दाखिल करते हुए पुरात्तव विभाग ने ताजमहल को एक मकबरा बताया है। पुरात्तव विभाग ने ताजमहल के मंदिर होने की बात को सिरे से नकार दिया है। पुरात्तव विभाग ने इस जवाब में ताजमहल के साथ जुड़े मुगल शासक शाहजहां और बेगम मुमताज महल के इतिहास को सही बताया है। आपको बता दें कि केंद्रीय सूचना आयोग ने सवाल खड़ा करते हुए संस्कृति मंत्रालय से इस संदेह को साफ करने के लिए कहा था।  सूचना आयोग ने पूछा था कि यह ऐतिहासिक इमारत शाहजहां द्वारा बनवाया हुआ मकबरा है या फिर शिव मंदिर, जिसे राजपूप राजा मान सिंह ने मुगल बादशाह को उपहार में दिया था। 

यह भी पढ़े- Good news : दिल्ली में ब्लू लाइन मेट्रो स्टेशन पर फ्री हाईस्पीड WiFi सेवा शुरू


आपको बता दें, ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने 1628-1658 में अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। इस मामले पर सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्यलु ने कहा है कि मंत्रालय इस मुद्दे पर विवाद खत्म करे और ताजमहल के मकबरे और मंदिर होने के संदेह को दूर करे। आज मंत्रालय ने अपना जवाब दाखिल किया है। हालांकि, जवाब में यह भी कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ताजमहल से जुड़े किसी भी मामले की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में नहीं हो सकती। जस्टिस अभिषेक सिन्हा मामले की सुनवाई 11 सिंतबर को करेंगे। 

यह भी पढ़े- तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

Todays Beets: