Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

अंग्वाल संवाददाता
मंदिर नहीं मकबरा है ताजमहल, पुरात्तव विभाग ने कोर्ट में दर्ज किया अपना जवाब

आगरा। पिछले दिनों ताजमहल पर दर्ज एक आरटीआई में पूछा गया था कि ताजमहल एक मकबरा है या फिर एक मंदिर। इस आरटीआई के बाद कोर्ट ने भारत सरकार और केंद्रीय पुरात्तव विभाग से जवाब मांगा था । इस जवाब को दाखिल करते हुए पुरात्तव विभाग ने ताजमहल को एक मकबरा बताया है। पुरात्तव विभाग ने ताजमहल के मंदिर होने की बात को सिरे से नकार दिया है। पुरात्तव विभाग ने इस जवाब में ताजमहल के साथ जुड़े मुगल शासक शाहजहां और बेगम मुमताज महल के इतिहास को सही बताया है। आपको बता दें कि केंद्रीय सूचना आयोग ने सवाल खड़ा करते हुए संस्कृति मंत्रालय से इस संदेह को साफ करने के लिए कहा था।  सूचना आयोग ने पूछा था कि यह ऐतिहासिक इमारत शाहजहां द्वारा बनवाया हुआ मकबरा है या फिर शिव मंदिर, जिसे राजपूप राजा मान सिंह ने मुगल बादशाह को उपहार में दिया था। 

यह भी पढ़े- Good news : दिल्ली में ब्लू लाइन मेट्रो स्टेशन पर फ्री हाईस्पीड WiFi सेवा शुरू


आपको बता दें, ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने 1628-1658 में अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। इस मामले पर सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्यलु ने कहा है कि मंत्रालय इस मुद्दे पर विवाद खत्म करे और ताजमहल के मकबरे और मंदिर होने के संदेह को दूर करे। आज मंत्रालय ने अपना जवाब दाखिल किया है। हालांकि, जवाब में यह भी कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ताजमहल से जुड़े किसी भी मामले की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में नहीं हो सकती। जस्टिस अभिषेक सिन्हा मामले की सुनवाई 11 सिंतबर को करेंगे। 

यह भी पढ़े- तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

Todays Beets: