Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

मध्यप्रदेश सरकार भी चली ‘योगी’ की राह, कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ दर्ज मुकदमे होंगे वापस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश सरकार भी चली ‘योगी’ की राह, कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ दर्ज मुकदमे होंगे वापस

भोपाल। करीब डेढ़ दशक के बाद मध्यप्रदेश की सत्ता में वापसी करने वाली कांग्रेस योगी सरकार की राह पर चल पड़ी है। मध्यप्रदेश के कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस नेताओं पर दर्ज सभी राजनीतिक मामले वापस लिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ये सभी मामले भाजपा कार्यकाल में दर्ज किए गए थे जिन्हें वापस लिया जाएगा। बता दें कि इससे पहले योगी सरकार ने भी प्रदेश के भाजपा नेताओं पर हुए मुकदमे वापस लेने का ऐलान किया था। मध्यप्रदेश के कानून मंत्री ने बलात्कार के आरोपियों को फांसी की सजा दिए जाने पर कहा कि महिला अपराधों पर लगाम लगाना प्राथमिकता होगी।

गौरतलब है कि शुक्रवार को ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा किया है। इससे पहले ज्योतिरादित्य और राजवर्धन सिंह अपने नेताओं को मंत्री बनाने में जुटे हुए थे। यहां तक की एक नाराज विधायक ने तो मंत्री नहीं बनाए जाने पर इस्तीफा तक देने की धमकी दे दी थी। हालांकि बाद में उसे दिल्ली आलाकमान से मिलने के लिए भेजा गया। 


ये भी पढ़ें - रिम्स बना बिहार की राजनीति का अखाड़ा, लालू ने मिलने पहुंचे तेजस्वी और कुशवाहा

यहां बता दें कि लंबी माथापच्ची के बाद मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया है। पीसी शर्मा विधि मंत्रालय, सज्जन सिंह वर्मा को लोक निर्माण विभाग, हुकुम सिंह कराड़ा को जन संसाधन विभाग, बाबा बच्चन को गृह विभाग, जेल विभाग, आरिफ अकील को पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक विभाग, तुलसी सिलावट को लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, गोविंद सिंह राजपूत को राजस्व और परिवहन विभाग, प्रियव्रत सिंह को ऊर्जा विभाग, सुखदेव पासी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, जयवर्धन सिंह को नगरीय विकास एवं आवास विभाग दिया गया है।  

Todays Beets: