Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

युवराज सिंह के परिवार को हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट का झटका, केस शिफ्ट करने से किया इंकार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
युवराज सिंह के परिवार को हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट का झटका, केस शिफ्ट करने से किया इंकार 

चंडीगढ़। टीम इंडिया से बाहर चल रहे युवराज सिंह के परिवार की परेशानियां कम नहीं हो रहीं हैं। युवराज के छोटे भाई जोरावर सिंह की पत्नी द्वारा लगाए गए घरेलू हिंसा के आरोप में हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट ने बढ़ा झटका दिया है। कोर्ट ने मामले को गुड़गांव से चंडीगढ़ कोर्ट में शिफ्ट करने से इंकार कर दिया है। बता दें कि जोरावर सिंह की पत्नी ने घरेलू हिंसा से महिलाओं की सुरक्षा कानून (2005) के तहत गुड़गांव में अपने पति के खिलाफ केस दर्ज कराया था और ससुराल वालों पर भी कई आरोप लगाए थे ।

गौरतलब है कि युवराज के छोटे भाई इस परेशानी से निजात पाने के लिए कोर्ट से अपील की थी उनके केस को चंडीकोर्ट कोर्ट में शिफ्ट कर दिया जाए लेकिन कोर्ट की ओर से कहा गया कि चंडीकोर्ट में पहले से ही उनके खिलाफ 3 मुकदमे चल रहे हैं। ऐसे में गुडगांव में चल रहे अन्य दो मामलों को गुड़गांव से चंडीगढ़ शिफ्ट नहीं किया जा सकता।


ये भी पढ़ें - केजरीवाल ने IAS अधिकारियों को दिया सुरक्षा का भरोसा, खत्म हो सकता है गतिरोध

यहां बता दें कि क्रिकेटर युवराज सिंह के छोटे भाई जोरावर और उनकी पत्नी के बीच पिछले कई सालों से विवाद चल रहा है। ऐसे में युवराज और उनकी मां शबनम सिंह ने अदालत से मांग की थी कि मीडिया को विवाद की कवरेज करने से रोका जाना चाहिए ताकि उनका परिवार बदनामी से बच सके। इस मामले को लेकर क्रिकेटर युवराज सिंह ने तीन साल पहले जून 2015 में यह याचिका दायर की थी। तब से अब तक 19 सुनवाई हुई लेकिन हाईकोर्ट ने किसी पक्ष को नोटिस जारी नहीं किया था। 

Todays Beets: