Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

युवराज सिंह के परिवार को हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट का झटका, केस शिफ्ट करने से किया इंकार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
युवराज सिंह के परिवार को हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट का झटका, केस शिफ्ट करने से किया इंकार 

चंडीगढ़। टीम इंडिया से बाहर चल रहे युवराज सिंह के परिवार की परेशानियां कम नहीं हो रहीं हैं। युवराज के छोटे भाई जोरावर सिंह की पत्नी द्वारा लगाए गए घरेलू हिंसा के आरोप में हरियाणा-चंडीगढ़ हाईकोर्ट ने बढ़ा झटका दिया है। कोर्ट ने मामले को गुड़गांव से चंडीगढ़ कोर्ट में शिफ्ट करने से इंकार कर दिया है। बता दें कि जोरावर सिंह की पत्नी ने घरेलू हिंसा से महिलाओं की सुरक्षा कानून (2005) के तहत गुड़गांव में अपने पति के खिलाफ केस दर्ज कराया था और ससुराल वालों पर भी कई आरोप लगाए थे ।

गौरतलब है कि युवराज के छोटे भाई इस परेशानी से निजात पाने के लिए कोर्ट से अपील की थी उनके केस को चंडीकोर्ट कोर्ट में शिफ्ट कर दिया जाए लेकिन कोर्ट की ओर से कहा गया कि चंडीकोर्ट में पहले से ही उनके खिलाफ 3 मुकदमे चल रहे हैं। ऐसे में गुडगांव में चल रहे अन्य दो मामलों को गुड़गांव से चंडीगढ़ शिफ्ट नहीं किया जा सकता।


ये भी पढ़ें - केजरीवाल ने IAS अधिकारियों को दिया सुरक्षा का भरोसा, खत्म हो सकता है गतिरोध

यहां बता दें कि क्रिकेटर युवराज सिंह के छोटे भाई जोरावर और उनकी पत्नी के बीच पिछले कई सालों से विवाद चल रहा है। ऐसे में युवराज और उनकी मां शबनम सिंह ने अदालत से मांग की थी कि मीडिया को विवाद की कवरेज करने से रोका जाना चाहिए ताकि उनका परिवार बदनामी से बच सके। इस मामले को लेकर क्रिकेटर युवराज सिंह ने तीन साल पहले जून 2015 में यह याचिका दायर की थी। तब से अब तक 19 सुनवाई हुई लेकिन हाईकोर्ट ने किसी पक्ष को नोटिस जारी नहीं किया था। 

Todays Beets: