Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा में मंगलवार को एक शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। कांग्रेस के विधायक और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो)के विधायक अभय चौटाला के बीच हाथापाई हो गई। मामला इतना आगे बढ़ गया कि सदन के अंदर ही दोनों नेताओं ने जूते तक निकाल लिए। कांग्रेस नेता करण दलाल को इस व्यवहार के लिए विधानसभा से 1 साल के लिए निलंबित कर दिया गया। इसके साथ ही सदन दलाल और चौटाला के खिलाफ वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने निंदा प्रस्ताव रखा है। 

गौरतलब है कि कांग्रेस के विधायक करण दलाल और इनेलो के विधायक अभय चौटाला के बीच कुछ बातों को लेकर कहासुनी हो गई। मामूली बात इतनी आगे बढ़ गई कि दोनों ने एक दूसरे को मारने के लिए जूते तक निकाल लिए। यहां बता दें कि इनेलो के विधायक अभय चौटाला ने हरियाणा को कलंकित प्रदेश कहने के मुद्दे पर कांग्रेस के विधायक करण दलाल के खिलाफ भाजपा विधायकों द्वारा प्रस्ताव लाने का समर्थन किया।


ये भी पढ़ें- यूपी में ‘बाबुओं’ के आएंगे अच्छे दिन, सीएम ने दिए तय समय पर पदोन्नति और इंक्रीमेंट देने के आदेश

यहां आपको बता दें कि इस पर करण सिंह दलाल भड़क गए और चौटाला पर बिफर पड़े और दोनों के बीच गाली गलौज होने लगी। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिन्दर सिंह हुड्डा ने दोनों नेताओं को अलग किया लेकिन बात काफी आगे बढ़ गई। दोनों नेताओं को अलग करने के लिए मार्शल को बुलाना पड़ा। भारी शोर-शराबे के बीच सदन की कार्यवाही को काफी देर के लिए रोकना भी पड़ा। सदन के दोबारा शुरू होने पर वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यू ने कांग्रेस के विधायक को 1 साल के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव रखा जिसे चर्चा के बाद स्वीकार कर लिया गया। हालांकि भूपिंदर सिंह हुड्डा ने बचाव की कोशिश की। 

Todays Beets: