Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा में मंगलवार को एक शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। कांग्रेस के विधायक और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो)के विधायक अभय चौटाला के बीच हाथापाई हो गई। मामला इतना आगे बढ़ गया कि सदन के अंदर ही दोनों नेताओं ने जूते तक निकाल लिए। कांग्रेस नेता करण दलाल को इस व्यवहार के लिए विधानसभा से 1 साल के लिए निलंबित कर दिया गया। इसके साथ ही सदन दलाल और चौटाला के खिलाफ वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने निंदा प्रस्ताव रखा है। 

गौरतलब है कि कांग्रेस के विधायक करण दलाल और इनेलो के विधायक अभय चौटाला के बीच कुछ बातों को लेकर कहासुनी हो गई। मामूली बात इतनी आगे बढ़ गई कि दोनों ने एक दूसरे को मारने के लिए जूते तक निकाल लिए। यहां बता दें कि इनेलो के विधायक अभय चौटाला ने हरियाणा को कलंकित प्रदेश कहने के मुद्दे पर कांग्रेस के विधायक करण दलाल के खिलाफ भाजपा विधायकों द्वारा प्रस्ताव लाने का समर्थन किया।


ये भी पढ़ें- यूपी में ‘बाबुओं’ के आएंगे अच्छे दिन, सीएम ने दिए तय समय पर पदोन्नति और इंक्रीमेंट देने के आदेश

यहां आपको बता दें कि इस पर करण सिंह दलाल भड़क गए और चौटाला पर बिफर पड़े और दोनों के बीच गाली गलौज होने लगी। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिन्दर सिंह हुड्डा ने दोनों नेताओं को अलग किया लेकिन बात काफी आगे बढ़ गई। दोनों नेताओं को अलग करने के लिए मार्शल को बुलाना पड़ा। भारी शोर-शराबे के बीच सदन की कार्यवाही को काफी देर के लिए रोकना भी पड़ा। सदन के दोबारा शुरू होने पर वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यू ने कांग्रेस के विधायक को 1 साल के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव रखा जिसे चर्चा के बाद स्वीकार कर लिया गया। हालांकि भूपिंदर सिंह हुड्डा ने बचाव की कोशिश की। 

Todays Beets: