Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हरियाणा विधानसभा की मर्यादा हुई तार-तार, कांग्रेस और इनेलो के विधायकों ने निकाले जूते

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा में मंगलवार को एक शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। कांग्रेस के विधायक और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो)के विधायक अभय चौटाला के बीच हाथापाई हो गई। मामला इतना आगे बढ़ गया कि सदन के अंदर ही दोनों नेताओं ने जूते तक निकाल लिए। कांग्रेस नेता करण दलाल को इस व्यवहार के लिए विधानसभा से 1 साल के लिए निलंबित कर दिया गया। इसके साथ ही सदन दलाल और चौटाला के खिलाफ वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने निंदा प्रस्ताव रखा है। 

गौरतलब है कि कांग्रेस के विधायक करण दलाल और इनेलो के विधायक अभय चौटाला के बीच कुछ बातों को लेकर कहासुनी हो गई। मामूली बात इतनी आगे बढ़ गई कि दोनों ने एक दूसरे को मारने के लिए जूते तक निकाल लिए। यहां बता दें कि इनेलो के विधायक अभय चौटाला ने हरियाणा को कलंकित प्रदेश कहने के मुद्दे पर कांग्रेस के विधायक करण दलाल के खिलाफ भाजपा विधायकों द्वारा प्रस्ताव लाने का समर्थन किया।


ये भी पढ़ें- यूपी में ‘बाबुओं’ के आएंगे अच्छे दिन, सीएम ने दिए तय समय पर पदोन्नति और इंक्रीमेंट देने के आदेश

यहां आपको बता दें कि इस पर करण सिंह दलाल भड़क गए और चौटाला पर बिफर पड़े और दोनों के बीच गाली गलौज होने लगी। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिन्दर सिंह हुड्डा ने दोनों नेताओं को अलग किया लेकिन बात काफी आगे बढ़ गई। दोनों नेताओं को अलग करने के लिए मार्शल को बुलाना पड़ा। भारी शोर-शराबे के बीच सदन की कार्यवाही को काफी देर के लिए रोकना भी पड़ा। सदन के दोबारा शुरू होने पर वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यू ने कांग्रेस के विधायक को 1 साल के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव रखा जिसे चर्चा के बाद स्वीकार कर लिया गया। हालांकि भूपिंदर सिंह हुड्डा ने बचाव की कोशिश की। 

Todays Beets: