Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

दिल्ली हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, तंदूर कांड के मुख्य आरोपी को फौरन रिहा करने के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, तंदूर कांड के मुख्य आरोपी को फौरन रिहा करने के आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने साल 1995 में दिल्ली में हुए तंदूर कांड मामले में शुक्रवार को बड़ा फैसला दिया है। कोर्ट ने कांड के मुख्य आरोपी सुशील शर्मा को फौरन रिहा करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि सुशील शर्मा पर अपनी पत्नी नैना साहनी की हत्या कर उसके शव को टुकड़े-टुकड़े कर बगिया रेस्टोरेंट के तंदूर में जला दिया था। इससे पहले 12 दिसंबर को हुई सुनवाई में कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा था कि इतनी लंबी सजा काटने के बाद भी सुशील शर्मा को रिहा क्यों नहीं किया गया?

गौरतलब है कि जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और एस.डी. सहगल की बैंच ने सरकार से यह बताने के लिए कहा है कि 29 साल की सजा पूरी कर चुके शर्मा को क्यों नहीं रिहा किया गया था। वर्ष 1995 में पत्नी नैना साहनी की हत्या कर बगिया रेस्टोरेंट के तंदूर में उसके शव को जलाने के जुर्म में शर्मा उम्रकैद की सजा काट रहा है। बैंच ने कहा है कि यह कैदी के मानवाधिकार से संबंधित है, लिहाजा यह बेहद गंभीर है।

ये भी पढ़ें - अमरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने दिया इस्तीफा, राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ नीतियों को लेकर गहरे मतभेद


यहां बता दें कि कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान कहा था कि यह बेहद गंभीर मुद्दा है। सुशील शर्मा अपनी पत्नी नैना साहनी की हत्या के सिलसिले में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने सुशील शर्मा की मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया था। कोर्ट ने पूछा था कि क्या हत्या के दोषी किसी व्यक्ति को पूरी जिंदगी जेल में रखा जा सकता है जब उसने पहले ही अपनी सजा पूरी कर ली है। ऐसे मंे उसे जेल में रखना मानवाधिकार का हनन नहीं है?

 

Todays Beets: