Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

सोशल मीडिया पर नजर रखने वाले प्रस्ताव पर सरकार ने लिया यू टर्न, अधिसूचना ली वापस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सोशल मीडिया पर नजर रखने वाले प्रस्ताव पर सरकार ने लिया यू टर्न, अधिसूचना ली वापस

नई दिल्ली। पूरे देश में सोशल मीडिया पर रखने के लिए बनाए जाने वाले ‘सोशल मीडिया हब’ पर सरकार ने यू टर्न ले लिया है। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को इस बात की जानकारी देते हुए अपनी अधिसूचना वापस ले ली। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट, तृणमूल कांग्रेस की नेता महुआ मोइत्रा के द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था। महुआ मोइ़त्रा ने अपनी याचिका में कहा था कि सरकार इस हब के जरिए देश के नागरिकों के सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करेगी। उन्होंने इस प्रस्ताव को रद्द करने की मांग की थी। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को इस मामले पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस खानविल्कर और जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि सरकार ने जब सोशल मीडिया हब बनाने वाले प्रस्ताव की अधिसूचना ही वापस ले रही है तो इससे जुड़ी याचिकाओं का कोई मतलब नहीं रह जाता है। ऐसे में उन्होंने सभी याचिकाओं को निस्तारित कर दिया। 


ये भी पढ़ें - रियाद से मुंबई आ रहे जेट एयरवेज का बड़ा हादसा टला, रनवे से उतरा नीचे

यहां बता दें कि पहले सरकार ने सोशल मीडिया की आॅनलाइन गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सोशल मीडिया हब बनाने की बात कही थी। इसके बाद तृणमूल कांग्रेस की नेता महुआ मोइत्रा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि सरकार लोगों की आॅनलाइन गतिविधियों पर नजर रखने के लिए इसे एक औजार के तौर पर इस्तेमाल करेगी। उन्होंने इस प्रस्ताव को रद्द करने की मांग भी की थी। गौर करने वाली बात है कि सुप्रीम कोर्ट ने 13 जुलाई को इस याचिका को स्वीकार करते हुए सरकार से पूछा था कि इस तरह के हब बनाने के पीछे उसका मकसद लोगों की सोशल मीडिया पर नजर रखना है। कोर्ट ने इसे ‘सर्विलांस स्टेट’ बनाने जैसा कदम बताया था।  

Todays Beets: