Friday, November 16, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

दिवाली के मौके पर अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के आदेश, वरिष्ठ डाॅक्टर रहेंगे मौजूद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिवाली के मौके पर अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के आदेश, वरिष्ठ डाॅक्टर रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर खतरा को देखते हुए सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रहने का आदेश दिया गया है। दिवाली पर अक्सर पटाखों से झुलसने के मामले अस्पतालों में आते हैं। हालांकि डॉक्टरों का कहना है कि इस बार पटाखों पर प्रतिबंध लगने से ऐसे हादसे कम होने की उम्मीद है। सेंट्रल दिल्ली स्थित केंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के बर्न विभाग को अलर्ट पर रखा गया है। दिवाली के अगले दिन अस्पताल के आॅपरेशन थिएटर को 24 घंटे के लिए खुला रखने का आदेश दिया गया है।

गौरतलब है कि राम मनोहर लोहिया अस्पताल के बर्न विभाग के डाॅक्टर का कहना है कि जलने वाले केस से निपटने के लिए दवा और खून का इंतजाम पहले से ही कर लिया गया है। आईसीयू में 2 बेड सुरक्षित कर दिए गए हैं। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल दिवाली और उसके बाद करीब 50 से 60 मामले सामने आए थे। 

ये भी पढ़ें - रालोसपा नेता की तल्खी नहीं हो रही कम, बढ़ी लोकप्रियता के हिसाब से मांगी सीटें


यहां बता दें कि सफदरजंग अस्पताल के डाॅक्टरों का कहना है कि बर्न डिपार्टमेंट के साथ आंखों और सांस की परेशानी से जुड़े सीनियर डॉक्टर भी अस्पताल में मौजूद रहेंगे। कई बार ऐसे केस आते हैं, जिनमें पटाखों से निकलने वाला बारूद आंख में चली जाती है और हालत गंभीर हो जाती है। ऐसे में अस्पताल में सीनियर आॅप्थमोलाॅजिस्ट की मौजूदगी सुनिश्चित की गई है।

गौर करने वाली बात है कि अस्थमा के मरीजों को भी धुएं से काफी परेशानी होती है अस्पतालों में उनसे निपटने की भी तैयारी की गई है। लोकनायक अस्पताल के अलावा डीडीयू, डॉ. भीमराव आंबेडकर, डॉ. हेडगेवार, लाल बहादुर शास्त्री और महर्षि वाल्मीकि अस्पताल में भी इमरजेंसी व्यवस्था की गई है। दिल्ली के चाचा नेहरू अस्पताल और जीटीबी में भी इसके लिए इंतजाम किए गए हैं। 

Todays Beets: