Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

दिवाली के मौके पर अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के आदेश, वरिष्ठ डाॅक्टर रहेंगे मौजूद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिवाली के मौके पर अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के आदेश, वरिष्ठ डाॅक्टर रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर खतरा को देखते हुए सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रहने का आदेश दिया गया है। दिवाली पर अक्सर पटाखों से झुलसने के मामले अस्पतालों में आते हैं। हालांकि डॉक्टरों का कहना है कि इस बार पटाखों पर प्रतिबंध लगने से ऐसे हादसे कम होने की उम्मीद है। सेंट्रल दिल्ली स्थित केंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के बर्न विभाग को अलर्ट पर रखा गया है। दिवाली के अगले दिन अस्पताल के आॅपरेशन थिएटर को 24 घंटे के लिए खुला रखने का आदेश दिया गया है।

गौरतलब है कि राम मनोहर लोहिया अस्पताल के बर्न विभाग के डाॅक्टर का कहना है कि जलने वाले केस से निपटने के लिए दवा और खून का इंतजाम पहले से ही कर लिया गया है। आईसीयू में 2 बेड सुरक्षित कर दिए गए हैं। गौर करने वाली बात है कि पिछले साल दिवाली और उसके बाद करीब 50 से 60 मामले सामने आए थे। 

ये भी पढ़ें - रालोसपा नेता की तल्खी नहीं हो रही कम, बढ़ी लोकप्रियता के हिसाब से मांगी सीटें


यहां बता दें कि सफदरजंग अस्पताल के डाॅक्टरों का कहना है कि बर्न डिपार्टमेंट के साथ आंखों और सांस की परेशानी से जुड़े सीनियर डॉक्टर भी अस्पताल में मौजूद रहेंगे। कई बार ऐसे केस आते हैं, जिनमें पटाखों से निकलने वाला बारूद आंख में चली जाती है और हालत गंभीर हो जाती है। ऐसे में अस्पताल में सीनियर आॅप्थमोलाॅजिस्ट की मौजूदगी सुनिश्चित की गई है।

गौर करने वाली बात है कि अस्थमा के मरीजों को भी धुएं से काफी परेशानी होती है अस्पतालों में उनसे निपटने की भी तैयारी की गई है। लोकनायक अस्पताल के अलावा डीडीयू, डॉ. भीमराव आंबेडकर, डॉ. हेडगेवार, लाल बहादुर शास्त्री और महर्षि वाल्मीकि अस्पताल में भी इमरजेंसी व्यवस्था की गई है। दिल्ली के चाचा नेहरू अस्पताल और जीटीबी में भी इसके लिए इंतजाम किए गए हैं। 

Todays Beets: