Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल को दिया बड़ा झटका, मानहानि मामले में दायर याचिका की खारिज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल को दिया बड़ा झटका, मानहानि मामले में दायर याचिका की खारिज 

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक बड़ा झटका दिया है। केजरीवाल ने कोर्ट से कुछ दस्तावेजों के मांग की थी जिसे खारिज कर दिया गया। बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर डीडीसीए के अध्यक्ष रहने के दौरान बड़ी अनियमितताओं का आरोप लगाया था। इसके बाद जेटली ने उनपर मानहानि का मुकदमा करते हुए 10 करोड़ रुपये हर्जाने की मांग की है।

आॅडिट रिपोर्ट पेश करने की याचिका

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने जेटली द्वारा दायर किए गए मानहानि के गवाह और दस्तावेजों को कोर्ट से मंगाने की मांग की थी इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। केजरीवाल ने कोर्ट में डीडीसीए की 2012-13, 2013-14 और 2014-15 की आॅडिट रिपोर्ट की पेश करने के लिए की मांग की, उन्होंने कहा कि इसके अलावा उन्हें बाद में भी इससे जुड़े दस्तावेज पेश करने की मंजूरी मिलनी चाहिए। 


ये भी पढ़ें - प्रेम कुमार धूमल होंगे हिमाचल में भाजपा के सीएम पद के उम्मीदवार- अमित शाह

हर्जाने की मांग

आपको बता दें कि केजरीवाल ने कोर्ट ने बताया कि ये दस्तावेज उन्हें कुछ दिनों पहले मिले हैं यही वजह है कि उसे लिखित रिपोर्ट दर्ज कराते समय पेश नहीं किया जा सका। उनका कहना है कि इन दस्तावेजों में काफी महत्वपूर्ण जानकारियां हैं जिससे साफ हो जाएगा कि डीडीसीए में किस तरह से वित्तीय अनियमितताओं को अंजाम दिया गया। बता दें कि अरुण जेटली ने केजरीवाल के इस आरोप को गलत बताते हुए हाईकोर्ट में मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है और 10 करोड़ रुपये हर्जाना दिलाने की मांग की है।

Todays Beets: