Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल को दिया बड़ा झटका, मानहानि मामले में दायर याचिका की खारिज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल को दिया बड़ा झटका, मानहानि मामले में दायर याचिका की खारिज 

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक बड़ा झटका दिया है। केजरीवाल ने कोर्ट से कुछ दस्तावेजों के मांग की थी जिसे खारिज कर दिया गया। बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर डीडीसीए के अध्यक्ष रहने के दौरान बड़ी अनियमितताओं का आरोप लगाया था। इसके बाद जेटली ने उनपर मानहानि का मुकदमा करते हुए 10 करोड़ रुपये हर्जाने की मांग की है।

आॅडिट रिपोर्ट पेश करने की याचिका

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने जेटली द्वारा दायर किए गए मानहानि के गवाह और दस्तावेजों को कोर्ट से मंगाने की मांग की थी इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। केजरीवाल ने कोर्ट में डीडीसीए की 2012-13, 2013-14 और 2014-15 की आॅडिट रिपोर्ट की पेश करने के लिए की मांग की, उन्होंने कहा कि इसके अलावा उन्हें बाद में भी इससे जुड़े दस्तावेज पेश करने की मंजूरी मिलनी चाहिए। 


ये भी पढ़ें - प्रेम कुमार धूमल होंगे हिमाचल में भाजपा के सीएम पद के उम्मीदवार- अमित शाह

हर्जाने की मांग

आपको बता दें कि केजरीवाल ने कोर्ट ने बताया कि ये दस्तावेज उन्हें कुछ दिनों पहले मिले हैं यही वजह है कि उसे लिखित रिपोर्ट दर्ज कराते समय पेश नहीं किया जा सका। उनका कहना है कि इन दस्तावेजों में काफी महत्वपूर्ण जानकारियां हैं जिससे साफ हो जाएगा कि डीडीसीए में किस तरह से वित्तीय अनियमितताओं को अंजाम दिया गया। बता दें कि अरुण जेटली ने केजरीवाल के इस आरोप को गलत बताते हुए हाईकोर्ट में मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है और 10 करोड़ रुपये हर्जाना दिलाने की मांग की है।

Todays Beets: