Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

भूपेश बघेल के मंत्रिमंडल में शामिल हुआ ‘अनपढ़’ मंत्री, शपथ भी राज्यपाल ने पढ़ी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भूपेश बघेल के मंत्रिमंडल में शामिल हुआ ‘अनपढ़’ मंत्री, शपथ भी राज्यपाल ने पढ़ी

नई दिल्ली।  छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के मंत्रिमंडल ने मंगलवार को शपथ ग्रहण कर लिया। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार निभा रही मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सभी मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। भूपेश बघेल के मंत्रिमंडल में कवासी लखमा नाम के एक ऐसा विधायक ने भी शपथ ली जिसे पढ़ना भी नहीं आता है। बता दें कि कवासी लखमा पिछड़ी जाति के नेता हैं और राज्य गठन के बाद से ही लगातार विधायक बनते आए हैं। उनकी पूरी शपथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने ही पढ़ी। विधायक जी पीछे-पीछे उसे दोहराते रहे। 

गौरतलब है कि अनुसूचित जाति से आने वाले कवासी लखमा राज्य के गठन के बाद से ही लगातार चुनाव जीतते रहे हैं। वह बस्तर की कोंटा सीट से विधायक है। विपक्ष में रहते हुए वह उप नेता विपक्ष की भूमिका निभा चुके हैं। उनका जन्म साल 1953 में सुकमा जिले के नागारास गांव में हुआ था। उनकी पत्नी का नाम कवासी बुधरी है और उनके दो बेटे और दो बेटियां हैं। 


ये भी पढ़ें - यूपी वाले 'बुआ-भतीजे' ने मोदी की PM कुर्सी पीछे खिसकाई , गठबंधन से भाजपा UP में 28 सीटों तक सिमटेगी!

बड़ी बात यह है कि विधायक से मंत्री बने कवासी लखमा अशिक्षित होने के बाद भी आॅस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और सिंगापुर की यात्राएं कर चुके हैं। मूल रूप से खेती-बाड़ी से जुड़े इस नेता को आदिवासी नृत्य में भी महारत हासिल है। अब देखना है कि जो भी विभाग इन्हें दिया जाता है उसकी जिम्मेदारी ये किस तरह से निभाते हैं!

Todays Beets: