Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

महिला ने घर में शौचालय न होने पर लिया तलाक, अदालत ने कहा मानसिक क्रूरता

अंग्वाल संवाददाता
महिला ने घर में शौचालय न होने पर लिया तलाक, अदालत ने कहा मानसिक क्रूरता

जयपुर। हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘टॉयलेट  एक प्रेम कथा’ में भारत में शौच को लेकर गंभीर समस्या को उजागर किया है। जिसमें हीरो की पत्नी घर में शौचालय न होने पर विरोध करते हुए पति से तलाक लेने के लिए कोर्ट में अर्जी देती है। ऐसा ही एक मामला राजस्थान के भीलवाड़ा में एक महिला ने घर में शौचालय ने होने पर अपने पति से तलाक ले लिया है। पीड़िता ने घर में शौचालय न होने पर परिवार से शिकायत की और खुले में शौच के लिए जाने का विरोध किया। महिला के वकील ने बताया कि, पीड़िता की शादी 2011 में हुई थी, लेकिन सुसराल में शौचालय नहीं होने से उसे खुले में शौच के लिए जाना पड़ता था। इस शर्मिंदगी के कारण पत्नी ने अपने पति से शौचालय बनवाने के लिए कहा। पति ने शौचालय नहीं बनवाया तो 20 अक्टूबर 2015 को भीलवाड़ा के पारिवारिक न्यायलय में पीड़िता ने तलाक याचिका दर्ज कर दी। अदालत ने महिला की तालाक की अर्जी को कबूल करते हुए भारत में शौच को मानसिक क्रूरता और महिलाओं की गरिमा के खिलाफ बताया है। 

यह भी पढ़े- सीएम योगी ने गोरखपुर का किया दौरा, राहुल और अखिलेख पर साधा निशाना

 

 


खुले में शौच करने पर जेल में बंद

ऐसा ही एक और मामला भी भिलवाड़ा से सामने आया है। भीलवाड़ा के जहाजपुर गांव के एसडीएम करतार सिंह ने लोगों को खुले में शौच करते देखा तो पहले उन्हें समझाया लेकिन लोगों ने उनकी बात नहीं मानी तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने छह घंटे तक उन अपराधियों को बंद रखा और उन पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया। साथ ही पुलिस ने उन्हें इस चेतावनी और वादे के साथ छोड़ा कि वह 10 दिन के अंदर अपने घर में शौचालय बन बनवाएंगे।  

यह भी पढ़े- RBI जल्द लाएगा 50 रुपये का नया नोट, जारी हुई तस्वीर, जानें क्या हैं इसकी खूबियां

 

 

Todays Beets: