Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

भारत में बना ई-स्किन सॉफ्टवेयर, ब्यूटी केयर प्रोडक्ट का करेगा परीक्षण 

अंग्वाल संवाददाता
भारत में बना ई-स्किन सॉफ्टवेयर, ब्यूटी केयर प्रोडक्ट का करेगा परीक्षण 

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सौंदर्य प्रसाधनों के जानवर पर होने वाले परीक्षणों पर रोक लगा रखी है, जिससे नए उत्पादों सिक्न केयर के परीक्षणों में खासी दिक्कतें हो रही थी।  वैज्ञानिकों ने इसका हल ढूंढ निकाला और एक नई इलैक्ट्रॉनिक स्किन तैयारी की, जिससे कुछ ही घंटो में ट्रायल किए जा सकेंगे। सीएसआईआर की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंट्रीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी) के वरिष्ठ वैज्ञानिक अनुराग के अनुसार, ई-सिक्न तैयार है और हम क्लिनिकल ट्रायल करने वाली  एंजेसियों को इसका लाइसेंस देने जा रहे हैं। इससे ट्रायल में पशुओं की जरुरत खत्म हो जाएगी। साथ ही परीक्षण में लगने वाले समय में भी कमी आएगी। 

यह भी पढ़े- क्रिकेटर गौतम की गंभीर पहल, जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद की बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे

क्या है ई-स्किन 

इलैक्ट्रॉनिक स्किन एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है। इसमें त्वचा में पाए जाने वाले सभी तत्वों का ब्यौरा रहता है। अब तक जितने परीक्षण त्वचा पर हुए हैं, उनका ब्यौरा भी इसमें शामिल हैं। जैसे त्वचा में कौन-सा तत्व डालने से या किस जीन के डालने से क्या होता है, इसकी सारी प्रोग्रामिंग शामिल है। अब ई-सिक्न सॉफ्टवेयर के जरिए किसी भी नए सौंदर्य उत्पाद को बनाए जाने पर उसका प्रभाव त्वचा पर क्या पड़ेगा आसानी से पाता लगाया जा सकेगा। साथ ही इस कंपोनेट या जीन पर कभी पहले परीक्षण हुआ तो  वह जानकारी भी मिल जाती है।


यह भी पढ़े-  जापान की राजकुमारी माको को हुआ आम लड़के से प्यार, शादी के लिए छोड़ेंगी शाही दर्जा 

 

 

Todays Beets: