Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

भारत में बना ई-स्किन सॉफ्टवेयर, ब्यूटी केयर प्रोडक्ट का करेगा परीक्षण 

अंग्वाल संवाददाता
भारत में बना ई-स्किन सॉफ्टवेयर, ब्यूटी केयर प्रोडक्ट का करेगा परीक्षण 

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सौंदर्य प्रसाधनों के जानवर पर होने वाले परीक्षणों पर रोक लगा रखी है, जिससे नए उत्पादों सिक्न केयर के परीक्षणों में खासी दिक्कतें हो रही थी।  वैज्ञानिकों ने इसका हल ढूंढ निकाला और एक नई इलैक्ट्रॉनिक स्किन तैयारी की, जिससे कुछ ही घंटो में ट्रायल किए जा सकेंगे। सीएसआईआर की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंट्रीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी) के वरिष्ठ वैज्ञानिक अनुराग के अनुसार, ई-सिक्न तैयार है और हम क्लिनिकल ट्रायल करने वाली  एंजेसियों को इसका लाइसेंस देने जा रहे हैं। इससे ट्रायल में पशुओं की जरुरत खत्म हो जाएगी। साथ ही परीक्षण में लगने वाले समय में भी कमी आएगी। 

यह भी पढ़े- क्रिकेटर गौतम की गंभीर पहल, जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद की बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे

क्या है ई-स्किन 

इलैक्ट्रॉनिक स्किन एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है। इसमें त्वचा में पाए जाने वाले सभी तत्वों का ब्यौरा रहता है। अब तक जितने परीक्षण त्वचा पर हुए हैं, उनका ब्यौरा भी इसमें शामिल हैं। जैसे त्वचा में कौन-सा तत्व डालने से या किस जीन के डालने से क्या होता है, इसकी सारी प्रोग्रामिंग शामिल है। अब ई-सिक्न सॉफ्टवेयर के जरिए किसी भी नए सौंदर्य उत्पाद को बनाए जाने पर उसका प्रभाव त्वचा पर क्या पड़ेगा आसानी से पाता लगाया जा सकेगा। साथ ही इस कंपोनेट या जीन पर कभी पहले परीक्षण हुआ तो  वह जानकारी भी मिल जाती है।


यह भी पढ़े-  जापान की राजकुमारी माको को हुआ आम लड़के से प्यार, शादी के लिए छोड़ेंगी शाही दर्जा 

 

 

Todays Beets: