Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

 मध्यप्रदेश चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, कहा-आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी सहायिकाएं होंगी नियमित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 मध्यप्रदेश चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, कहा-आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी सहायिकाएं होंगी नियमित

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले ही राजनीतिक दलों ने जनता को लुभाने के लिए चुनावी वादे करने शुरू कर दिए हैं। सोमवार को कांग्रेस के बड़े नेता कमलनाथ ने कहा कि अगर प्रदेश में उनकी सरकार बनती है तो आशा कार्यकर्ताओं के साथ आंगनबाड़ी में काम करने वालों को नियमित किया जाएगा। इसके साथ ही स्कूलों में बच्चों के लिए मिड डे मील तैयार करने वाले रसोइयों के मानदेय को भी बढ़ाया जाएगा। भाजपा नेताओं ने कमलनाथ के इस वादे को  कांग्रेस का चुनावी लाॅलीपाॅप बताया है। बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी लोगों को सरकारी योजनाओं की ‘होम डिलीवरी’ की बात कह चुके हैं। 

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में चुनाव का प्रचार पूरे जोर-शोर से चल रहा है। दोनों ही बड़ी पार्टियां भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे पर आरोप लगाने के साथ ही जनता को लुभाने के लिए कई तरह के वादे कर रही है। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने सोशल मीडिया के जरिए इस बात की घोषणा की है कि अगर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आती है तो आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी में काम करने वालों को नियमित किया जाएगा।

 

ये भी पढ़ें - स्थिति का जायजा लेने सबरीमाला पहुंचे मंत्री, कहा-भक्त कोई आतंकी नहीं, इतनी पुलिस की क्या जरूरत? 

उन्होंने यहां तक कहा कि स्कूलों में बच्चों के लिए मिड डे मील तैयार करने वालो रसोइयों के मानदेय को भी बढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही स्वयं सहायता समूह में काम करने वाली महिलाओं के कर्ज को भी माफ किया जाएगा।  बता दें कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के लिए 28 नवंबर को मतदान होंगे। 

Todays Beets: