Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

 मध्यप्रदेश चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, कहा-आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी सहायिकाएं होंगी नियमित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 मध्यप्रदेश चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, कहा-आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी सहायिकाएं होंगी नियमित

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले ही राजनीतिक दलों ने जनता को लुभाने के लिए चुनावी वादे करने शुरू कर दिए हैं। सोमवार को कांग्रेस के बड़े नेता कमलनाथ ने कहा कि अगर प्रदेश में उनकी सरकार बनती है तो आशा कार्यकर्ताओं के साथ आंगनबाड़ी में काम करने वालों को नियमित किया जाएगा। इसके साथ ही स्कूलों में बच्चों के लिए मिड डे मील तैयार करने वाले रसोइयों के मानदेय को भी बढ़ाया जाएगा। भाजपा नेताओं ने कमलनाथ के इस वादे को  कांग्रेस का चुनावी लाॅलीपाॅप बताया है। बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी लोगों को सरकारी योजनाओं की ‘होम डिलीवरी’ की बात कह चुके हैं। 

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में चुनाव का प्रचार पूरे जोर-शोर से चल रहा है। दोनों ही बड़ी पार्टियां भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे पर आरोप लगाने के साथ ही जनता को लुभाने के लिए कई तरह के वादे कर रही है। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने सोशल मीडिया के जरिए इस बात की घोषणा की है कि अगर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आती है तो आशा कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी में काम करने वालों को नियमित किया जाएगा।

 

ये भी पढ़ें - स्थिति का जायजा लेने सबरीमाला पहुंचे मंत्री, कहा-भक्त कोई आतंकी नहीं, इतनी पुलिस की क्या जरूरत? 

उन्होंने यहां तक कहा कि स्कूलों में बच्चों के लिए मिड डे मील तैयार करने वालो रसोइयों के मानदेय को भी बढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही स्वयं सहायता समूह में काम करने वाली महिलाओं के कर्ज को भी माफ किया जाएगा।  बता दें कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के लिए 28 नवंबर को मतदान होंगे। 

Todays Beets: