Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

लोकसभा चुनाव 2019ः महाराष्ट्र में भी हो सकता है बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोकसभा चुनाव 2019ः महाराष्ट्र में भी हो सकता है बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए के सीट बंटवारा फाइनल होने के बाद अब मामला महाराष्ट्र का अटका हुआ है। खबरों के अनुसार भाजपा नेतृत्व यहां भी बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा कर सकती है। एक सर्वे के अनुसार अगर भाजपा और शिवसेना एक साथ मिलकर चुनाव लड़ती है तो उन्हें फायदा होगा वहीं अकेले चुनाव लड़ने पर नुकसान होने की संभावना है। गौर करने वाली बात है कि शिवसेना सरकार की नीतियों को लेकर लगातार उसपर हमलावर रही है। हालांकि शिवसेना ने भी साथ मिलकर चुनाव लड़ने की संभावना जताई है। 

गौरतलब है कि शिवसेना सरकार की नीतियों और काम को लेकर हमलावर रही है। हालांकि इसके बाद भी वह केंद्र और राज्य दोनों ही जगहों पर सरकार में शामिल है। सरकार पर हमले के सवाल पर पार्टी ने कहा कि यह उनकी अंदरूनी राजनीति है और वह सरकार के फैसले से नाराज नहीं है। अगर ऐसा होता तो क्या वह सरकार में रहती। 


ये भी पढ़ें -शिवसेना अध्यक्ष ने राफेल डील पर पीएम को घेरा, कहा-सरकार भ्रष्टाचार में शामिल

यहां बता दें कि बिहार में भी सीटों के बंटवारे को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी के दवाब के बाद एनडीए ने उन्हें उचित सम्मान दिया। अब शिवसेना भी ऐसा ही करना चाहती है। एक सर्वे के अनुसार लोकसभा चुनाव में अगर दोनों साथ मिलकर लड़ती है तो उन्हें फायदा होने की संभावना जताई गई है। आपको बता दें कि पिछली बार दोनों ने 48 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से 41 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। हालांकि भाजपा को साथ से ज्यादा अकेले ही चुनाव लड़ने पर फायदा दिख रहा है, विधानसभा का चुनाव इसका उदाहरण है। अब देखना यह है कि अपनी विरोधी पार्टी के साथ भाजपा किस तरह से निपटती है।  

Todays Beets: