Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

लोकसभा चुनाव 2019ः महाराष्ट्र में भी हो सकता है बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोकसभा चुनाव 2019ः महाराष्ट्र में भी हो सकता है बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए के सीट बंटवारा फाइनल होने के बाद अब मामला महाराष्ट्र का अटका हुआ है। खबरों के अनुसार भाजपा नेतृत्व यहां भी बिहार की तर्ज पर सीटों का बंटवारा कर सकती है। एक सर्वे के अनुसार अगर भाजपा और शिवसेना एक साथ मिलकर चुनाव लड़ती है तो उन्हें फायदा होगा वहीं अकेले चुनाव लड़ने पर नुकसान होने की संभावना है। गौर करने वाली बात है कि शिवसेना सरकार की नीतियों को लेकर लगातार उसपर हमलावर रही है। हालांकि शिवसेना ने भी साथ मिलकर चुनाव लड़ने की संभावना जताई है। 

गौरतलब है कि शिवसेना सरकार की नीतियों और काम को लेकर हमलावर रही है। हालांकि इसके बाद भी वह केंद्र और राज्य दोनों ही जगहों पर सरकार में शामिल है। सरकार पर हमले के सवाल पर पार्टी ने कहा कि यह उनकी अंदरूनी राजनीति है और वह सरकार के फैसले से नाराज नहीं है। अगर ऐसा होता तो क्या वह सरकार में रहती। 


ये भी पढ़ें -शिवसेना अध्यक्ष ने राफेल डील पर पीएम को घेरा, कहा-सरकार भ्रष्टाचार में शामिल

यहां बता दें कि बिहार में भी सीटों के बंटवारे को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी के दवाब के बाद एनडीए ने उन्हें उचित सम्मान दिया। अब शिवसेना भी ऐसा ही करना चाहती है। एक सर्वे के अनुसार लोकसभा चुनाव में अगर दोनों साथ मिलकर लड़ती है तो उन्हें फायदा होने की संभावना जताई गई है। आपको बता दें कि पिछली बार दोनों ने 48 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से 41 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। हालांकि भाजपा को साथ से ज्यादा अकेले ही चुनाव लड़ने पर फायदा दिख रहा है, विधानसभा का चुनाव इसका उदाहरण है। अब देखना यह है कि अपनी विरोधी पार्टी के साथ भाजपा किस तरह से निपटती है।  

Todays Beets: