Thursday, April 19, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

अब उपभोक्ता भी जान सकेंगे दवाओं की असल कीमत, सरकार बनाने जा रही नए नियम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब उपभोक्ता भी जान सकेंगे दवाओं की असल कीमत, सरकार बनाने जा रही नए नियम

नई दिल्ली। दवाई खरीदते समय हम अक्सर उस पर लिखी एमआरपी को देखते हैं और दुकानदारों द्वारा कुछ छूट देने भर से ही हम खुश हो जाते हैं। क्या आपको पता है कि दवाई के रैपर पर लिखी कीमत उसकी असल कीमत नहीं होती है। सरकार अब इसके लिए ऐसा नियम बनाने जा रही है जिससे दवाओं के पैकटों पर अधिकतम मूल्य के साथ फैक्ट्री लागत भी लिखी आएगी जिससे उपभोक्तओं को असली दाम का पता चल सकेगा। अगर दवा विदेश से आयात की गई है तो उस पर लैंडेड प्राइस यानी की भारत आने के समय उसका मूल्य अंकित होगा।

बाजार में पारदर्शिता

गौरतलब है कि सरकार का ऐसा मानना है कि इस व्यवस्था से दवा बाजार में पारदर्शिता आएगी। इससे दवाओं के मनमाने दाम वसूलने वाली कंपनियों पर दवाब भी बढ़ेगा। हालांकि दवा उद्योग सरकार के इस कदम से खुश नहीं है। एसोसिएशन आॅफ इंडियन मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री के फोरम संयोजक राजीव नाथ का कहना है कि आयात के दाम लगातार बदलते रहते हैं ऐसे में लगातार बदलाव संभव नहीं है।


ये भी पढ़ें - विंटर गेम्स के लिए औली पूरी तरह से तैयार, एक बार फिर से लग सकता है साहसिक खेलों के शौकीनों ...

अधिसूचना होगी जारी

आपको बता दें कि केन्द्रीय दवा मानक नियंत्रण संगठन ने ड्रग्स एंड काॅस्मेटिक्स एक्ट के नियम में संशोधन का प्रस्ताव रखा है। संशोधन में बदलाव होने के बाद सभी दवा निर्माताओं को यह जानकारी देना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय जल्द ही इसके लिए अधिसूचना जारी करेगा। इससे दवा कंपनियों पर मुनाफा कम से कम रखने का दवाब होगा। अगर यह योजना अमल में आती है तो उपभोक्ता भी दवा की लागत और पैकेट पर लिखे दामों में अंतर कर अपना पैसा बचा पाएंगे। 

Todays Beets: