Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

अब उपभोक्ता भी जान सकेंगे दवाओं की असल कीमत, सरकार बनाने जा रही नए नियम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब उपभोक्ता भी जान सकेंगे दवाओं की असल कीमत, सरकार बनाने जा रही नए नियम

नई दिल्ली। दवाई खरीदते समय हम अक्सर उस पर लिखी एमआरपी को देखते हैं और दुकानदारों द्वारा कुछ छूट देने भर से ही हम खुश हो जाते हैं। क्या आपको पता है कि दवाई के रैपर पर लिखी कीमत उसकी असल कीमत नहीं होती है। सरकार अब इसके लिए ऐसा नियम बनाने जा रही है जिससे दवाओं के पैकटों पर अधिकतम मूल्य के साथ फैक्ट्री लागत भी लिखी आएगी जिससे उपभोक्तओं को असली दाम का पता चल सकेगा। अगर दवा विदेश से आयात की गई है तो उस पर लैंडेड प्राइस यानी की भारत आने के समय उसका मूल्य अंकित होगा।

बाजार में पारदर्शिता

गौरतलब है कि सरकार का ऐसा मानना है कि इस व्यवस्था से दवा बाजार में पारदर्शिता आएगी। इससे दवाओं के मनमाने दाम वसूलने वाली कंपनियों पर दवाब भी बढ़ेगा। हालांकि दवा उद्योग सरकार के इस कदम से खुश नहीं है। एसोसिएशन आॅफ इंडियन मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री के फोरम संयोजक राजीव नाथ का कहना है कि आयात के दाम लगातार बदलते रहते हैं ऐसे में लगातार बदलाव संभव नहीं है।


ये भी पढ़ें - विंटर गेम्स के लिए औली पूरी तरह से तैयार, एक बार फिर से लग सकता है साहसिक खेलों के शौकीनों ...

अधिसूचना होगी जारी

आपको बता दें कि केन्द्रीय दवा मानक नियंत्रण संगठन ने ड्रग्स एंड काॅस्मेटिक्स एक्ट के नियम में संशोधन का प्रस्ताव रखा है। संशोधन में बदलाव होने के बाद सभी दवा निर्माताओं को यह जानकारी देना अनिवार्य होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय जल्द ही इसके लिए अधिसूचना जारी करेगा। इससे दवा कंपनियों पर मुनाफा कम से कम रखने का दवाब होगा। अगर यह योजना अमल में आती है तो उपभोक्ता भी दवा की लागत और पैकेट पर लिखे दामों में अंतर कर अपना पैसा बचा पाएंगे। 

Todays Beets: