Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

बिहार के गोदाम में चूहों ने एक बार फिर छलकाए ‘जाम’, पी गए सैंकड़ों लीटर शराब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार के गोदाम में चूहों ने एक बार फिर छलकाए ‘जाम’, पी गए सैंकड़ों लीटर शराब

पटना। बिहार में अपराधियों के साथ चूहे भी बेखौफ हो गए हैं। राज्य में शराबबंदी होने के बाद भी सैंकड़ों लीटर शराब चूहे पी गए। कैमूर जिले के गोदाम में बिहार के अलग-अलग इलाकों में पकड़े गए अवैध शराब के जखीरे को रखा गया था, जब उसे नष्ट करने के लिए निकाला गया तो उसके पहले और बाद के हिसाब में 10 रुपये कस अंतर पाया गया। बता दें कि राज्य में चूहों के द्वारा शराब पी जाने का दूसरा मामला है। 

गौरतलब है कि राज्य के उत्पादन विभाग ने साल 2016 से लेकर अभी तक पकड़े गए शराब के जखीरे को कैमूर जिले के गोदाम में रखा गया था। बताया जा रहा है कि शराब को नष्ट करने से पहले हिसाब लगाया गया तो उसमें पहले के मुकाबले 10 हजार रुपये का अंतर आया जिसके बाद पता चला कि जो शराब कम है वह चूहों ने पी ली है।

ये भी पढ़ें -पुलिस की करतूतों पर ‘अपने’ ही हुए योगी पर हमलावर, कहा- पैसे लेकर हत्या कर रही है 


यहां आपको बता दें कि जिला प्रशासन ने 11 हजार लीटर शराब को नष्ट किया है। इसकी कीमत करीब 30 लाख रुपये बताया जा रहा है। मजिस्ट्रेट के सामने शराब की बोतलों को रोलर से नष्ट किया गया। नष्ट किए गए शराब में देशी विदेशी के अलावा बीयर भी शामिल है। इस बारे में एसडीएम कुमारी अनुपम सिंह का कहना है कि शराब के कार्टन को नष्ट कर दिया गया है और इसका भौतिक सत्यापन चल रहा है कि चूहों ने कितनी शराब नष्ट की है। जांच के बाद ही पूरी स्थिति का पता चल पाएगा।

गौरतलब है कि साल 2017 में भी बिहार में जब्त करीब 9 लाख लीटर से अधिक की शराब चूहे पी गए थे। खबर की जानकारी मिलते ही बिहार पुलिस मुख्यालय ने जांच के आदेश दिए थे। उस समय बिहार के राजनीतिक गलियारों में इस मुद्दे पर खूब बहस हुई थी।  साथ ही आरोप और प्रत्यारोप का भी दौर चला था।

Todays Beets: