Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

रेलवे टेंडर घोटाले में तेजस्वी और राबड़ी को मिली जमानत, सीबीआई ने जताई नाराजगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रेलवे टेंडर घोटाले में तेजस्वी और राबड़ी को मिली जमानत, सीबीआई ने जताई नाराजगी

नई दिल्ली। रेलवे टेंडर घोटाले के मामले में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी शनिवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने राहत देते हुए जमानत दे दी। हालांकि कोर्ट ने इस मामले में आरोपी राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को भी समन भेजकर उपस्थित रहने के आदेश दिए थे लेकिन रिम्स अस्पताल के डाॅक्टरों ने उन्हें चलने फिरने के लिए अनुपयुक्त घोषित किया हुआ है। सीबीआई ने सभी लोगों को जमानत देने का विरोध करते हुए कहा कि ऐसा होने से जांच प्रभावित हो सकती है। इससे पहले कोर्ट ने उन्हें अंतरिम जमानत दी थी।

गौरतलब है कि साल 2004 से 2009 के बीच रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव ने रेलवे के पुरी और रांची स्थित बीएनआर होटल के रखरखाव आदि के लिए आईआरसीटीसी को स्थानांतरित किया था। सीबीआई के मुताबिक, नियम-कानून को ताक पर रखते हुए रेलवे का यह टेंडर विनय कोचर की कंपनी मेसर्स सुजाता होटल्स को दे दिए गए थे। 

ये भी पढ़ें - गरीब बच्चों का निजी स्कूलों में पढ़ने का सपना होगा चकनाचूर, सरकार ने दिए सीटों को कम करने के निर्देश


यहां बता दें कि लालू प्रसाद पर यह आरोप लगाया गया कि टेंडर के बदले कोचर बंधुओं ने उन्हें पटना में बेली रोड स्थित 3 एकड़ जमीन कौड़ियों के भाव में बेच दिया जबकि उसकी कीमत बाजार में काफी ज्यादा थी। इस जमीन को कृषि जमीन बताकर सर्कल रेट से काफी कम पर बेच कर स्टांप ड्यूटी में गड़बड़ी की गई। बाद में इस पर मालिकाना हक लालू के परिवार का दिखाया गया। 

 

Todays Beets: