Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अगर रिश्ते में नहीं बची है कोई गुंजाइश तो तुंरत मिलेगा तलाक  

अंग्वाल संवाददाता
सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अगर रिश्ते में नहीं बची है कोई गुंजाइश तो तुंरत मिलेगा तलाक  

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा है कि जब पति-पत्नी के बीचे रिश्ते सुधरने की जरा भी गुंजाइश न रह जाए तो दोनों की आपसी सहमति से तुंरत तलाक की इजाजत दी जा सकती है। शीर्ष अदालत ने कहा कि ऐसे मामले में आपसी सहमति से दी गई अर्जी के बाद छह महीने की कूलिग ऑफ पीरियड की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है। न्यायमूर्ति आर्दश कुमार गोयल और न्यायमूर्ति यूयू ललित की पीठ ने छह महीने के कूलिंग ऑफ पीरियड की कानूनी बाध्यता को हटाते हुए कहा कि उद्देश्य विहीन शादी को लंबा खिंचने और दोनों पक्षों की पीड़ा बढ़ाने का कोई मतलब नहीं है। 

यह भी पढ़े- रेयान के मालिकों की अग्रिम जमानत का विरोध करेंगे प्रद्युम्न के पिता , बॉम्बे हाईकोर्ट में सुन...

हालांकि वैवाहिक संबंध को बरकार रखने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए लेकिन जब दोनों पक्षों पर इसका कोई असर न हो तो उन्हें नया जीवन शुरू करने का विकल्प देना ही बेहतर होगा। पीठ ने कहा, हमारा मानना है कि हिंदू विवाह अधिनियम की धारा बी(2) में वर्णित छह महीने की कूलिंग ऑफ पीरियड अनिवार्य नहीं है बल्कि यह एक निर्देशिका है। ऐसे मामलों के साक्ष्य और परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए अदालत अपने अधिकार का इस्तेमाल कर सकती है। हालांकि अदालत को यह भी लगना चाहिए दोनों पक्षों के बीच सुलह के बिल्कुल आसार नहीं है। 


यह भी पढ़े- आईएस के गिरफ्त से छुड़ाए गए फादर टॉम, सुषमा स्वराज ने दी जानकारी 

सुप्रीम कोर्ट मे इसके लिए कुछ शर्तें निर्धारित की है किस तरह आपसी सहमति पर तलाक की अर्जी दायर करने के एक बफ्ते बाद कूलिंग ऑफ पीरियड को खत्म करने का आवेदन दाखिल किया जा सकता है। नियम के मुताबिक, पति पत्नी आपसी सहमति से तलाक की अर्जी तब दाखिल कर सकते हैं, जब वे एक वर्ष से अलग रह रहे हों। पीठ ने कहा, कि एक वर्ष बाद तलाक की अर्जी दी जाती है और इसके बाद सुलह के सभी प्रयास विफल रह जाते हैं तो दोनों पक्ष बच्चों की कस्टडी, निर्वाह वहन आदि मामला सुलक्ष चुका हो तो तलाक में देरी का कोई कारण नहीं है। 

Todays Beets: