Monday, September 25, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

सुप्रीम कोर्ट का फैसला, हिंदू परिवार की संपत्ति पर होगा सभी का बराबर हिस्सा 

अंग्वाल संवाददाता
सुप्रीम कोर्ट का फैसला, हिंदू परिवार की संपत्ति पर होगा सभी का बराबर हिस्सा 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में कहा है कि हिंदू अविभाजित परिवार की संपत्ति पर सभी लोगों का बराबर हिस्सा होगा। अगर कोई सदस्य इस पर हक जताता है कि सब उसका है उसने अर्जित किया है, तो उसे कानूनी रूप से साबित करना होगा। न्यायमूर्ति आरके अग्रवाल और अभय स्प्रे ने कहा कि जो व्यक्ति संपत्ति पर दावा करता है कि सब उसका है तो उसे अदालत में साबित करना होगा कि इसे उसने खुद अर्जित किया था। यह व्यक्तिगत तौर पर उसकी जिम्मेदारी होगी। पीठ ने कहा कि हिंदू लॉ में यह मान्यता है कि हिंदू परिवार खाने, पूजा व संपत्ति में एक होता है, जब तक कि कानूनी तौर पर बंटवारा न हो जाए। 

अदालत ने यह फैसला एक याचिकाकर्ता की याचिका खारिज करते हुए सुनाया है। याचिकाकर्ता ने अदालत में याचिका दर्ज कर संयुक्त परिवार की कृषि भूमि पर अपना हक जताया था। उसका कहना था कि इसे उसने खुद अर्जित किया था। इस मुद्दे पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक कोर्ट के उस फैसले को बरकरार रखा जिसमें अदालत ने इस संपत्ति को संयुक्त परिवार का माना था। साथ ही अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता यह साबित करने में असफल रहा है कि यह सब उसने खुद अर्जित किया है। इससे साफ होता है कि व्यक्ति संपत्ति को हड़पने के चक्कर में था।


अदालत का कहना है कि जब तक सदस्य कानूनी रूप से यह साबित नहीं कर पाता कि सारी संपत्ति को उसने ही अर्जित किया है। तब तक संपत्ति पर संयुक्त परिवार का बराबर हिस्सा होगा।

Todays Beets: