Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

हमीरपुर में चलता-फिरता अस्पताल कर रहा लोगों का इलाज, अनुराग ठाकुर ने शुरू की थी मोबाइल हेल्थ सेवा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हमीरपुर में चलता-फिरता अस्पताल कर रहा लोगों का इलाज, अनुराग ठाकुर ने शुरू की थी मोबाइल हेल्थ सेवा

शिमला। शिमला। हिमाचल की हमीरपुर सीट से भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर ने अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपल्बध कराने के लिए मोबाइल हेल्थ सेवा शुरू की है। इसका मकसद राज्य के दूर-दराज के इलाकों में बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना है। अनुराग ठाकुर के मुताबिक,1 मई 2018 से शुरू हुई, जिसके तहत अभी तक 60 ग्राम पंचायतों के 4500 लोगों को लाभ पहुंचा हैं। इस मोबाइल हेल्थ सेवा के माध्यम से हमीरपुर के लोगों को स्वास्थ्य जांच की जो कमी खल रही थी, वो परेशानी अब दूर हो रही है।

ये भी पढ़े-नौशेरा में पाकिस्तानी गोलीबारी में 1 जवान शहीद, फिर से शुरू हो सकता है आॅपरेशन आॅल आउट

बता दें कि पिछले महीने शुरू हुई इस सेवा से बहुत कम वक्त में 60 पंचायतों के 4500 लोगों को फायदा पहुंचा है। यह मोबाइल हेल्थ यूनिट अलग-अलग ग्राम पंचायतों में हफ्ते में 5 दिन चलती है। खास बात ये है कि जिस ग्राम पंचायत में यह यूनिट जाती है वहां की ग्राम पंचायत को 10 दिन पहले ही इसके बारे में सूचना दे दी जाती है।इस मोबाइल हेल्थ यूनिट में एक लैब टेक्निशियन, एक नर्स के साथ हेल्थ ऑफिसर भी हैं। इस मोबाइल यूनिट में 40 अलग-अलग मेडिकल टेस्ट किए जाते हैं। इस एसएमएस सेवा द्वारा हर रोज 75 गरीबों का इलाज किया जाता है।


ये भी पढ़े- मोदी-ट्रंप की दोस्ती में पड़ी ‘दरार’, अमेरिकी उत्पादों पर दी जाने वाली छूट खत्म

गौरतलब है कि हमीरपुर में वैसे तो 90 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं जिसमें लाखों की संख्या में लोग इलाज करवाने आते हैं पर देश के अन्य राज्यों की तरह यहां भी डॉक्टर, नर्स और लैब टेक्निशयन की कमी है। अनुराग ठाकुर का मानना है कि लगभग 7 लाख आयुष डॉक्टर की मदद से इस कमी को पूरा किया जा सकता है। ऐसे में राज्य में मोबाइल हेल्थ सेवा क्षेत्र के लोगों के लिए एक अच्छा जरिया साबित हो रहा है।

Todays Beets: