Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

अश्विनी चौबे ने विपक्षी नेताओं को बताया सर्कस का जानवर, कहा- चुनाव आते-आते सब बंगाल की खाड़ी में जाएंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अश्विनी चौबे ने विपक्षी नेताओं को बताया सर्कस का जानवर, कहा- चुनाव आते-आते सब बंगाल की खाड़ी में जाएंगे

रांची । कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी के शपथ ग्रहण समरोह को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने विपक्ष पर निशाना साधा है। उन्होंने शपथ समरोह के दौरान मंच पर नजर आई विपक्षी एकता की तुलना सर्कस के जानवरो से की। रांची में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान जब पत्रकारों ने 2019 के विपक्षी एकता पर सवाल किया तब स्वास्थ्य राज्यमंत्री चौबे ने कहा- सर्कस के भालू-बंदर सभी नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए एकजुट हुए हैं। चुनाव आते ही सर्कस की पूरी टीम बंगाल की खाड़ी में चली जाएगी।

केंद्रीय राज्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे हिन्दुत्व पर खुलकर बोलते हैं। हिन्दू को भारत की जीवन पद्धति मानते हैं। साथ ही उन्होंने अपने पुत्र का बचाव करते हुए कहा कि हिन्दुत्व की रक्षा के लिए सैंकड़ों कार्यकर्ता जेल गए, उसमे से एक मेरा पुत्र भी है।


अश्विनी ने इस दौरान कहा की इस साल के अंत तक देश में 6 एम्स और काम करने लगेंगे। मोदी सरकार ने देश को 14 एम्स दिए हैं। उन्होंने कहा- पीएम की सोच है कि स्थानीय स्तर पर लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मिलें। बतौर केंद्रीय मंत्री NHM के द्वारा प्रारंभिक स्तर पर स्वास्थ्य सुधार का लक्ष्य रहा गया है।

उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए बताया की 1996 में झारखंड में मातृत्व मृत्यु दर 416 से घटकर अब 208 रह गई है। इसी क्रम में शिशु मृत्यु दर में भी झारखण्ड का प्रदर्शन राष्ट्रीय औसत से बेहतर है। राष्ट्रीय औसत 34 शिशु प्रति हजार है तो झारखंड का 29 शिशु प्रति हजार है। संस्थागत प्रसव में भी झारखंड का बेहतर प्रदर्शन है।

Todays Beets: