Thursday, December 13, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

अश्विनी चौबे ने विपक्षी नेताओं को बताया सर्कस का जानवर, कहा- चुनाव आते-आते सब बंगाल की खाड़ी में जाएंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अश्विनी चौबे ने विपक्षी नेताओं को बताया सर्कस का जानवर, कहा- चुनाव आते-आते सब बंगाल की खाड़ी में जाएंगे

रांची । कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी के शपथ ग्रहण समरोह को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने विपक्ष पर निशाना साधा है। उन्होंने शपथ समरोह के दौरान मंच पर नजर आई विपक्षी एकता की तुलना सर्कस के जानवरो से की। रांची में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान जब पत्रकारों ने 2019 के विपक्षी एकता पर सवाल किया तब स्वास्थ्य राज्यमंत्री चौबे ने कहा- सर्कस के भालू-बंदर सभी नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए एकजुट हुए हैं। चुनाव आते ही सर्कस की पूरी टीम बंगाल की खाड़ी में चली जाएगी।

केंद्रीय राज्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे हिन्दुत्व पर खुलकर बोलते हैं। हिन्दू को भारत की जीवन पद्धति मानते हैं। साथ ही उन्होंने अपने पुत्र का बचाव करते हुए कहा कि हिन्दुत्व की रक्षा के लिए सैंकड़ों कार्यकर्ता जेल गए, उसमे से एक मेरा पुत्र भी है।


अश्विनी ने इस दौरान कहा की इस साल के अंत तक देश में 6 एम्स और काम करने लगेंगे। मोदी सरकार ने देश को 14 एम्स दिए हैं। उन्होंने कहा- पीएम की सोच है कि स्थानीय स्तर पर लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मिलें। बतौर केंद्रीय मंत्री NHM के द्वारा प्रारंभिक स्तर पर स्वास्थ्य सुधार का लक्ष्य रहा गया है।

उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए बताया की 1996 में झारखंड में मातृत्व मृत्यु दर 416 से घटकर अब 208 रह गई है। इसी क्रम में शिशु मृत्यु दर में भी झारखण्ड का प्रदर्शन राष्ट्रीय औसत से बेहतर है। राष्ट्रीय औसत 34 शिशु प्रति हजार है तो झारखंड का 29 शिशु प्रति हजार है। संस्थागत प्रसव में भी झारखंड का बेहतर प्रदर्शन है।

Todays Beets: