Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

'आप'  नेता ने केजरीवाल पर कसा तंज, कहा- पार्टी आलाकमान हम पर थोपते हैं अपने गलत फैसले

अंग्वाल न्यूज डेस्क

चंडीगढ़ । एक समय देश की राजनीति में छा जाने वाली आम आदमी पार्टी इस समय अपने ढलान पर नजर आ रही है । पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का धीरे-धीरे पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल से गतिरोध के चलते पार्टी छोड़ देना या उन्हें पार्टी से निकाल देने के बाद अब पार्टी के आलाकमान पर खुलेआम सवाल उठने लगे हैं। पिछले साल पंजाब में पार्टी ने अपनी दमदार एंट्री की थी और अकाली जैसी पुरानी पार्टी को पीछे छोड़ते हुए मुख्य विपक्षी दल बनी। लेकिन अब पंजाब में भी फूट बढ़ती जा रही है। पिछले दिनों  कई राज्यों में विधानसभा की 11 सीटों पर हुए उपचुनाव में से पंजाब की शाहकोट सीट पर कांग्रेसी नेता द्वारा 'आप' नेता को बुरी तरह हराया। इस पर पार्टी के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी ने अपनी साख खोई है । उन्होंने कहा कि पंजाब में पार्टी के आला नेताओं को अपने फैसले लेने का अधिकार नहीं है। हाईकमान अपने गलत फैसले भी हमपर थोपता है। हमें अपने फैसले लेने की आजादी नहीं है।

उपचुनाव में आप नेता को महज 1900 वोट

आप की पंजाब इकाई के नेता सुखपाल सिंह खेहरा ने कहा कि-  पिछले चुनावों में हम पंजाब के मुख्य विपक्षी दल बनकर सामने आए थे। आम आदमी पार्टी ने हाल में हुए शाहकोट उपचुनाव में अपना प्रतिनिधि उतारा था। इस सीट पर पिछली बार आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार को 40 हजार वोट मिले थे लेकिन इस बार पार्टी के उम्मीदवार को महज 1900 से वोट मिले हैं। इससे साफ होता है कि पार्टी ने पंजाब में अपनी साख खोई है। केजरीवाल की माफी का भी चुनाव पर कोई असर नहीं पड़ा ।

ये भी पढ़ें - लोन विवाद में फंसी ICICI बैंक की MD चंदा कोचर छुट्टी पर गईं, स्वतंत्र जांच शुरू होने के बाद बैंक बोर्ड ने दिया था सुझाव


अपने हिसाब से काम करने की आजादी नहीं

खेहरा ने इस दौरान आम आदमी पार्टी के आलाकमान पर निशाना साधते हुए कहा कि पंजाब में जो आम आदमी पार्टी पिछले साल तक मुख्य विपक्षी दल की भूमिका निभा रही थी, अब उसकी साख गिर रही है। हम राज्य में दूसरे नंबर की पार्टी बन गए थे, लेकिन अब पहले जैसी बात नहीं रही। आप की राज्य इकाई को अपने फैसले लेने की इजाजत नहीं है। हमें दिल्ली में पार्टी के आलाकमान की ओर से आने वाले फैसलों को ही मानना पड़ता है। हमें राज्य में अपने हिसाब के काम करने की आजादी नहीं हैं ।  पार्टी आलाकमान हम पर अपने फैसले थोपते हैं।

ये भी पढ़ें - एमपी समेत 7 राज्यों की जनता हो जाए तैयार, शनिवार से सब्जियां मिलेंगी महंगी, दूध की आपूर्ति होगी बाधित, जानिए क्या है कारण

Todays Beets: