Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अधिशासी अभियंता को कोर्ट में जींस और शर्ट पहनकर पेश होना पड़ा महंगा, लगा 5 हजार का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अधिशासी अभियंता को कोर्ट में जींस और शर्ट पहनकर पेश होना पड़ा महंगा, लगा 5 हजार का जुर्माना

इलाहाबाद। विभागीय मामले को लेकर हाईकोर्ट में पेशी के दौरान वाराणसी के अधिशासी अभियंता विजय कुशवाहा को जींस और शर्ट पहनना महंगा पड़ गया। अब कोर्ट ने उनपर ड्रेसकोड के उल्लंघन करने पर 5 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है और मामले की सुनवाई करने वाले न्यायमूर्ति बी अमित स्थालेकर और न्यायमूर्ति जयंत बनर्जी की इसके साथ ही उनके सर्विस रिकाॅर्ड में प्रतिकूल प्रविष्टि दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। बताया जा रहा है कि अधिशासी अभियंता को अपने ही विभाग के सेवानिवृत्ति कर्मचारी की पेंशन आदि भुगतान के मामले में कोर्ट में तलब किया गया था।

गौरतलब है कि मामले की सुनवाई के दौरान अधिशासी अभियंता विजय कुशवाहा हाईकोर्ट में कैजुअल ड्रेस पहनकर आ गए। जींस पैंट और गुलाबी रंग की शर्ट पहनकर पहुंचे अभियंता को देखकर मामले की सुनवाई करने वाले न्यायमूर्ति बी अमित स्थालेकर और न्यायमूर्ति जयंत बनर्जी की पीठ ने कहा कि यूपी सरकार में प्रथम श्रेणी के अधिकारी ऐसे ही ड्रेस पहनते हैं और क्या यह सरकार की तरफ से ऐसे ड्रेसकोड को मान्यता दी गई है? कोर्ट ने यह भी कहा कि एक सरकारी अधिकारी को इस बात का पता होना चाहिए कि कोर्ट में पेश होते समय क्या ड्रेस पहनना है।

ये भी पढ़ें - त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब की ‘ज्ञानवाणी’, कहा- बत्तखों के पानी में तैरने से आॅक्सीजन का स्त...

यहां बता दें कि हाईकोर्ट ने इस बात को लेकर अधिशासी अभियंता पर 5 हजार रुपये का जुर्माना लगा दिया और एक महीने के अंदर इसे महानिबंधक के पास जमा करने के आदेश दिया है। रकम जमा नहीं करने की सूरत में उनसे भू राजस्व की वसूली वाला तरीका अपनाने का भी आदेश दिया है। इसके साथ ही सिंचाई विभाग के सचिव को अधिशासी अभियंता विजय कुशवाहा की सर्विस रिकाॅर्ड में प्रतिकूल प्रविष्टि दर्ज करने के साथ उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। 


 

गौर करने वाली बात है कि सिंचाई विभाग से सेवानिवृत्त हो चुके एक कर्मचारी का सेवानिवृत्ति परिलाभ और पेंशन विभाग ने रोक दिया था। उसकी मृत्यू के बाद पत्नी ने इसके भुगतान के लिए याचिका दायर की लेकिन सरकारी बाबुगिरी के चक्कर में उसे बार-बार दौड़ाया जाने लगा। कोर्ट ने याची को 2011 से 2014 तक भुगतान नहीं करने पर इस अवधि का 6 फीसदी ब्याज के साथ बकाया भुगतान करने का आदेश दिया है।

 

Todays Beets: